दुनिया का सबसे शक्तिशाली और चमत्कारिक पौधा, जिससे ख़त्म होती है अनगिनित बीमारियाँ

1,485

अपने हमेशा सुना होगा की यदि किसी चीज का ज्ञान लेना हो तो पूरा ज्ञान लेना चाहिए क्योंकि आधा अधूरा ज्ञान कभी भी लाभदायक नहीं होता है। ठीक उसी प्रकार आयुर्वेद में भी बहुत सी ऐसी चीज़ो के बारे में बताया गया है लोगों जिनके बारे में पूरा तरह नहीं जानते है और वह आयुर्वेदिक चीज़ो का पूरा फायदा भी नहीं उठा पाते है।

बस कंडक्टर के लिए निकली बम्पर भर्तियाँ, बेरोजगार जल्दी करें आवेदन 

सरकार ने CISF ASI पदों पर निकाली है भर्तियाँ – अभी भरे फॉर्म 

UPSC ने निकाली विभिन्न विभिन्न पदों पर भर्तियाँ, योग्यतानुसार भरें आवेदन 

The world's most powerful and miraculous plant, which ends countless diseases

आज हम आपको आज के लेख में बताने जा रहे है की एक ऐसे पौधे को जिसके बारे में आज तक आपको शायद किसी ने नहीं बताया होगा। यह कोई मामूली पौधा नहीं बल्कि एक ऐसा पौधा है जिसके बारे में यदि आपको पूरा ज्ञान है तो आप 37 प्रकार की बीमारियों को भी पूरी तरह से समाप्त कर सकते है। इस लाभकारी पौधे का नाम अतिबला है। चलिए जानते है की इस पौधे का इस्तेमाल आप कौन कौन सी बीमारियों में किस प्रकार से कर सकते है।

पेशाब का बार-बार आना

Many girls suffer from leaking urine, this is how they are treated

अतिबला की जड़ की छाल का पाउडर यदि चीनी के साथ लें तो बार-बार पेशाब आने की बीमारी से छुटकारा मिलता है।

मसूढ़ों की सूजन

अतिबला के पत्तों का काढ़ा बनाकर यदि आप प्रतिदिन दिन में 3 से 4 बार कुल्ला करें तो रोजाना के इस प्रयोग करने से मसूढ़ों की सूजन व मसूढ़ों का ढीलापन दूर होता है।

गीली खांसी

Cough and Cold Treatment

अतिबला के साथ कंटकारी, बृहती, वासा के पत्ते और अंगूर को बराबर मात्रा में लेकर काढ़ा बना लेते हैं। इसे 14 से 28 मिलीमीटर की मात्रा में 5 ग्राम शर्करा के साथ मिलाकर दिन में दो बार लेने से गीली खांसी बिल्कुल पूरी तरह से ठीक हो जाती है।

दस्त

loading...

दस्त

अतिबला (कंघी) के पत्तों को देशी घी में मिलाकर दिन में 2 बार पीने से दस्त में काफी लाभ होता है।

पेशाब के साथ खून आना

पेशाब के साथ खून आना

अतिबला की जड़ का 40 मिलीलीटर की मात्रा में काढ़ा सुबह-शाम पीने से पेशाब में खून का आना पूरी तरह से बंद हो जाता है।

बवासीर

Get to rid hemorrhoids with Jamun by consuming only piles in a few days.

अतिबला के पत्तों को पानी में उबालकर उस्का अच्छी तरह से काढ़ा बना लें। इस काढ़े में उचित मात्रा में ताड़ का गुड़ मिलाकर पीयें। इससे बवासीर में बेहतरीन लाभ होता है।

पेट में दर्द होने पर

Know why and when gas is produced in a person's stomach

अतिबला के साथ पृश्नपर्णी, कटेरी, लाख और सोंठ को मिलाकर दूध के साथ पीने से पित्तोदर यानी पित्त के कारण होने वाले पेट के दर्द में बहुत ही लाभ मिलेगा।

मूत्ररोग

Urine Problem

अतिबला के पत्तों या जड़ का काढ़ा लेने से मूत्रकृच्छ (सुजाक) रोग पूरी तरह से दूर होता है। ये काढ़ा सुबह-शाम 40 मिलीलीटर लें। यदि इसके बीज 4 से 8 ग्राम रोज लें तो काफी लाभ होता है।

शरीर को शक्तिशाली बनाना

What you can use to make your body powerful knowing

शरीर में कमजोरी होने पर अतिबला के बीजों को पकाकर खाने से शरीर की ताकत काफी बढ़ जाती है।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Comments are closed.