धूम्रपान की आदत से आंखों को होता है गंभीर नुकसान, इन बीमारियों के होने का खतरा

0 188

धूम्रपान हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत खतरनाक होता है। ज्यादातर लोगों का मानना ​​है कि धूम्रपान से कैंसर, सांस की बीमारी और फेफड़ों की समस्या होती है लेकिन ऐसा नहीं है। धूम्रपान हमारी आंखों को भी बुरी तरह प्रभावित करता है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर आप धूम्रपान नहीं करते हैं और केवल धूम्रपान करने वाले के संपर्क में आते हैं तो भी यह आपको नुकसान पहुंचा सकता है। लंबे समय तक धूम्रपान करने से आंखें लाल होने और धुंधली दृष्टि का खतरा बढ़ जाता है।

सभी धूम्रपान करने वालों को न केवल कैंसर और फेफड़ों की बीमारी होती है बल्कि यह हमारे पूरे शरीर को प्रभावित करता है। विशेषज्ञों के अनुसार आंखों की रोशनी कम होने का सबसे बड़ा कारण मोतियाबिंद की बीमारी थी। पहले यह बढ़ती उम्र के कारण होता था, लेकिन अब यह कई अन्य कारणों से भी होता है। धूम्रपान भी मोतियाबिंद का सबसे बड़ा कारण है। अगर आप धूम्रपान करते हैं तो आपको अपनी आंखों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं धूम्रपान से आंखों से जुड़ी कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं।

मोतियाबिंद का खतरा:

जितना अधिक आप धूम्रपान करते हैं, उतनी ही अधिक संभावना आपको मोतियाबिंद होने या विकसित होने की होती है। मोतियाबिंद एक ऐसी बीमारी है जिसमें आंख का लेंस कमजोर हो जाता है और देखने की क्षमता कम होने लगती है। धूम्रपान से निकलने वाले धुएं का सीधा असर आंखों पर पड़ता है।

यूवाइटिस:

यूवाइटिस एक नेत्र रोग है जो आंख की मध्य परत की सूजन का कारण बनता है। 2015 की एक रिपोर्ट के अनुसार, यूवाइटिस के एक प्रमुख कारण के रूप में धूम्रपान को भी फंसाया गया है। सिगरेट में पाए जाने वाले तत्व रक्त कोशिकाओं पर असर डालते हैं, जिससे आंखों में सूजन की समस्या होने लगती है।

ड्राई आई सिंड्रोम:

ड्राई आई की समस्या आमतौर पर तब होती है जब आंखों से आंसू आना बंद हो जाते हैं। इस स्थिति में आंखों में रूखापन, जलन और लालपन आने लगता है। सिगरेट का धुआं इसे और बढ़ा देता है, जिससे ड्राई आई सिंड्रोम का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।

कलर ब्लाइंडनेस हो सकता है:

स्मोकिंग से कलर ब्लाइंडनेस जैसी गंभीर आंखों की समस्या भी हो सकती है। विशेषज्ञों का कहना है कि सेकेंड हैंड स्मोक हमारे रेटीना को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। यह हमारी आंख के उस हिस्से को प्रभावित करता है जो किसी दृश्य को देखकर मस्तिष्क को संदेश भेजता है। जिससे पनीर का रंग अलग दिखने लगता है.

ऑप्टिक न्यूरोपैथी समस्या: विशेषज्ञों के अनुसार, आंख को किसी भी चीज को ठीक से देखने के लिए ऑप्टिक और रेटिना दोनों को ठीक से काम करने की जरूरत होती है। सेकेंड हैंड धुएं में मौजूद निकोटिन आंखों में ऑप्टिक नर्व सेल्स को नुकसान पहुंचाता है, जिससे चीजें धुंधली दिखाई देती हैं।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply