आपको जानकार बड़ी हैरानी होगी कि इस देश में बुजुर्गों को शारीरिक संबंध की कोई रोक टोक नहीं

111

रोचक बातें : आपने देखा होगा हमारे देश में ऐसे विषयों पर बात करने में लोग हिचकते हैं. लेकिन अन्य देशों में शारीरिक संबंधों को लेकर इतनी ज्यादा समस्या नहीं है. वहां ये सब एक स्वास्थ्य संबंधी विषय की तरह लिया जाता है जिस कारण लोग ऐसे विषयों पर खुलकर बात करते हैं.

The elders of this country make the most physical connection

बुजुर्गों के शारीरिक संबंधों को लेकर भारत में कोई खास शोध नहीं होता लेकिन बाहर के देशों में इस विषय पर भी ध्यान दिया जाता है. दुनिया के सबसे खुशहाल देशों में से एक माने जाने वाले स्वीडन में बुजुर्गों के जीवन स्तर को लेकर एक सर्वे हुआ जिसमें बेहद दिलचस्प परिणाम सामने आये.

स्वीडन में 70 साल से ज्यादा उम्र वाले बुजुर्गों के शारीरिक संबंधों पर हुए शोध में आये नतीजे बताते हैं कि 1971 में जहां 52 पर्सेंट बुजुर्गों ने शारीरिक संबंधों में सक्रिय होने की बात कही वहां लगभग 50 साल बाद इनकी संख्या बढ़कर 68 प्रतिशत हो गई. महिलाओं में यह संख्या 38 से बढ़कर 56 प्रतिशत हो गई.

The elders of this country make the most physical connection

Advertisement

ज्ञात हो कि, दुनिया के अनु देशों में बुजुर्गो की स्थिति इतनी अच्छी नहीं होती जैसी कि, स्वीडन जैसे संपन्न और खुशहाल देशों में है. स्वीडन की खुशहाली का राज भी कहीं ना कहीं उसके खुले माहौल में छुपा है जहाँ हर किसी को पूर्णतया स्वतंत्रता है.

4 आसान से सवालों के जवाब देकर जीतें 400 रु– यहां क्लिक करें

जिओ Diwali Sale :- 
Jio 2 Smartphone  मोबाइल को 499 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JIO Mini SmartWatch को 199 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JioFi M2 को 349 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

Jio Fitness Tracker को 99 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

चाणक्य निति द्वारा चाणक्य ने बताई है चरित्रहीन औरत की यह पहचान

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Advertisement

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.