सबसे अच्छा तरीका जिससे अब अपने मोबाइल नेटवर्क की समस्या को दूर कर सकते हो

658

हर वक्त कनेक्टेड रहने की जरूरत ने हमारी मोबाइल फोन पर निर्भरता बढा दी है। लेकिन हमेशा ऐसा हो ये जरूरी नहीं। जब फोन अपने सबसे करीबी टावर से संपर्क नहीं कर पाता है तो हमें खराब नेटवर्क या कभी कभी नेटवर्क बिल्कुल गायब होने जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है।

दसवीं पास लोगों के लिए इस विभाग में मिल रही है बम्पर रेलवे नौकरियां
दिल्ली के इस बड़े हॉस्पिटल में निकली है जूनियर असिस्टेंट के पदों पर नौकरियां – अभी देखें
ITI, 8th, 10th युवाओं के लिये सुनहरा अवसर नवल शिप रिपेयर भर्तियाँ, जल्दी करें अभी देखें जानकारी 
loading...
ग्राहक डाक सेवा नौकरियां 2019: 10 वीं पास 3650 जीडीएस पदों के लिए करें ऑनलाइन

बाहर के मुकाबले घर या ऑफिस के भीतर खराब नेटवर्क की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है। क्योंकि घर और ऑफिस में हम हमेशा दीवारों और कई दूसरी ऐसी रुकावटों से घिरे रहते हैं, जो सिग्नल को फोन तक पहुंचने नहीं देती।

Airtel ने हाल ही में एलान किया है कि वो L900 नाम की एक नई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने जा रहे हैं। इसमें 900MHz बैंड का इस्तेमाल होता है, जिसकी मदद से घरों और दफ्तरों के अंदर ग्राहकों को बेहतर सिग्नल दिया जा सकेगा। ये टेक्नॉलजी किस तरह से घरों और दफ्तरों के भीतर खराब नेटवर्क की समस्या को सुलझा सकती है, ये समझने के लिए जानते हैं कि L900 टेक्नॉलजी, किस तरह से मोबाइल कनेक्टिविटी को प्रभावित करती है।

मोबाइल फोन, एक खास फ्रीक्वेंसी बैंड या स्पेक्ट्रम (जैसे 2300 MHz, 1800 MHz ) वाली तरंगों की मदद से मोबाइल टावर से संपर्क करते हैं। और जैसा कि फिज़िक्स का नियम है कि फ्रीक्वेंसी जितनी ज्यादा होगी, तंरगों के लिए लंबी दूरी तय करना और दीवार या दूसरी रुकावटों को पार कर पाना उतना ही मुश्किल होता है। इसे इस छोटे से चित्र की मदद से समझते हैं।

ऐसे में ये समझना काफी आसान है कि आखिर छोटी फ्रीक्वेंसी वाले स्पेक्ट्रम बड़ी फ्रीक्वेंसी वाले स्पेक्ट्रम से क्यों बेहतर हैं। हालांकि छोटी फ्रीक्वेंसी के स्पेक्ट्रम देने के लिए टेलीकॉम कंपनियों को एक विशेष तरह का उच्च स्तरीय इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करना पड़ता है।

इस नई नेटवर्क टेक्नॉलजी के इस्तेमाल से Airtel, अपने प्रीमियम 900MHz बैंड के व्यापक इस्तेमाल की योजना बना रहा है। इनडोर नेटवर्क कनेक्टिविटी में सुधार आने से मोबाइल यूजर्स को अब डेड जोन (यानि ऐसी जगह जहां बिल्कुल नेटवर्क नहीं आता) जैसी समस्या का सामना नहीं करना पडेगा। उन्हें बेहतर सिग्नल की तलाश में यहां वहां भटकना नहीं पड़ेगा और न ही किसी कोने में जाकर फोन करने की जरूरत पड़ेगी। बेहतर कनेक्टिविटी का एक फायदा ये भी है कि ग्राहकों को सही डेटा स्पीड भी मिलेगी। इस तरह आखिरकार हम अपने घर या दफ्तर के अंदर जाते हुए भी बिना किसी दिक्कत के बातें करते रहेंगे।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.