आखिर रात के अंधेरे में ही क्यों होता है किन्नर का अंतिम संस्कार