ब्रेन ट्यूमर के लक्षण और संकेत ध्यान से ये हैं ब्रेन ट्यूमर के सामान्य लक्षण

1,778

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण और संकेत ब्रेन ट्यूमर एक जानलेवा बीमारी है जिसका समय पर इलाज न होने पर मौत का खतरा बढ़ सकता है। आंकड़े बताते हैं कि सभी प्राथमिक तंत्रिका तंत्र ट्यूमर का 85-90% मस्तिष्क में होता है। ब्रेन ट्यूमर भी भारत में एक बड़ी समस्या है। 2018 में, ब्रेन ट्यूमर को देश में 10वें सबसे आम प्रकार के ट्यूमर के रूप में वर्गीकृत किया गया था।

विशेषज्ञों के अनुसार, हालांकि हर साल ब्रेन ट्यूमर का निदान होने की संख्या अधिक नहीं है, लेकिन इसके परिणामस्वरूप ब्रेन ट्यूमर से होने वाली मृत्यु दर अभी भी चिंता का एक प्रमुख कारण है। इसके शुरुआती लक्षणों को गंभीरता से लेना चाहिए।

ब्रेन ट्यूमर मस्तिष्क में असामान्य कोशिकाओं के अनियंत्रित विकास की समस्या है। ट्यूमर के आकार और यह किस क्षेत्र में है, इसके आधार पर लक्षण हल्के या गंभीर हो सकते हैं। इसका समय पर निदान और उपचार किया जाना चाहिए। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार इस गंभीर और जानलेवा समस्या का समय रहते (ब्रेन ट्यूमर के लक्षण और संकेत) कुछ शुरुआती सामान्य लक्षणों को देखते हुए पता लगाया जा सकता है।

ब्रेन ट्यूमर की समस्या –

ब्रेन ट्यूमर मस्तिष्क के उन क्षेत्रों में होता है जहां कोशिकाएं असामान्य रूप से विकसित होती हैं। उदाहरण के लिए, यदि मस्तिष्क के सेरिबैलम में एक ट्यूमर बढ़ता है, तो रोगी को शारीरिक समन्वय स्थापित करने, चलने और यहां तक ​​कि सामान्य कार्य

करने में भी कठिनाई हो सकती है। जैसे-जैसे ट्यूमर आकार में बढ़ता है, इसके लक्षण और अधिक गंभीर होते जाते हैं। सामान्य तौर पर, यदि विशिष्ट लक्षणों को जल्दी देखा जाता है, तो समय पर निदान और उपचार करना आसान होता है।

ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों को पहचानें –

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक ब्रेन ट्यूमर के शुरुआती दौर में लोगों को कुछ छोटी-मोटी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसे नजरअंदाज किया जाता है। हालांकि, अगर ऐसी समस्याएं कुछ समय तक बनी रहती हैं, तो आपको तुरंत विशेषज्ञ की सलाह

लेनी चाहिए। समय पर शोध से उचित उपचार हो सकता है।

बार-बार होने वाला सिरदर्द-

श्रवण या दृश्य हानि। व्यक्तित्व या व्यवहार में परिवर्तन। शरीर का संतुलन बनाए रखने में असमर्थ। बार-बार चक्कर आना, कमजोरी या सुन्नता। पक्षाघात शरीर के एक तरफ होता है। अस्पष्टीकृत कारणों से उल्टी और मतली की समस्या।

ब्रेन ट्युमर का होतो (Why Does Brain Tumor Occur) ?-

दैनिक जीवन में कुछ ऐसी चीजें होती हैं, जो तनाव और ब्रेन ट्यूमर का कारण बन सकती हैं।

साथ ही, अगर परिवार के किसी पिता, दादा या दादी को ब्रेन ट्यूमर है

तो कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक अध्ययन के अनुसार, यह अगली पीढ़ी को प्रेषित होता है।

इसके अलावा, जो लोग लंबे समय तक विकिरण के संपर्क में रहते हैं, उनमें इस बीमारी के होने का खतरा होता है।

ब्रेन ट्यूमर कैसे ठीक होता है? –

एक मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार, ब्रेन ट्यूमर का इलाज ट्यूमर के प्रकार, आकार और स्थान के साथ-साथ आपके संपूर्ण स्वास्थ्य पर निर्भर करता है।

कुछ प्रकार की दवाओं से लेकर सर्जरी, कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी (सर्जरी, कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी) और कुछ अन्य आवश्यक उपचार।

रोग के निदान से रोग का उपचार करके रोगी के जीवन को बचाने की संभावना तुरंत बढ़ जाती है।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.