Soldier Smart Tracker Watch: आठवीं कक्षा के छात्र आपदा के समय पता लगाने में काम आएंगे

0 168

Soldier Smart Tracker Watch: दो सहपाठी छात्रों ने सीमा पर तैनात जवानों के लिए खास निगरानी रखी है. विपरीत परिस्थितियों में सैनिकों को लगातार प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ता है। हाल ही में मणिपुर और पहाड़ी इलाकों में भूस्खलन के कारण कई सैनिकों की जान चली गई थी। इन बातों ने लड़कों को हताहतों को रोकने और उन्हें जल्द से जल्द खोजने के लिए प्रेरित किया। वे सैनिकों के लिए विशेष स्मार्ट वॉच ट्रैकर (स्मार्ट वॉच ट्रैकर) बनाया गया है, जो सैनिकों का पता लगाने में सक्षम होगा। यह स्मार्ट वॉच इन जवानों को ढूंढने और उन्हें बचाने में काफी मददगार हो सकती है। वाराणसी के आर्यन इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों ने इस स्मार्ट वाट ट्रैकर को बनाया है। दक्ष अग्रवाल और सूरज (Daksh Agarwal and Suraj)इन छात्रों के नाम ये हैं और ये आठवीं कक्षा में पढ़ रहे हैं। इस छोटे से वैज्ञानिक के इस महान विचार ने सभी का दिल जीत लिया है।

Soldier Smart Tracker Watch: सिर्फ दो हजार में गैजेट्स

Soldier Smart Tracker Watch: इन छोटे वैज्ञानिकों के इस प्रयोग की चर्चा हो रही है. यह घड़ी सैनिकों और नागरिकों के लिए बहुत उपयोगी होगी। इस घड़ी की कीमत छात्रों को दो हजार रुपये थी और इसे बनाने में एक सप्ताह का समय लगा। यह स्मार्ट वॉच ट्रैकर 3 वोल्ट बटन सेल, रेडियो ट्रांसमीटर रिसीवर, स्विच, घड़ी और अलार्म का उपयोग करता है।

इसका उपयोग किया जाएगा

स्मार्ट सैनिक ट्रैकिंग घड़ी (स्मार्ट सैनिक ट्रैकिंग घड़ी) भूस्खलन के दौरान उपयोगी। मलबे में दबे सैनिक मिल सकते हैं। बचाव दल को समय पर सूचना देने से सैनिकों और नागरिकों की जान बचाई जा सकती है। इस ट्रैकिंग वॉच के दो भाग हैं। पहला ट्रांसमीटर सेंसर, जो सिपाही की घड़ी में लगा होगा। दूसरा रिसीवर अलार्म सिस्टम स्मार्ट वॉच के ट्रांसमीटर सेंसर से जुड़ा होगा। रिसीवर अलार्म सिस्टम (रिसीवर अलार्म सिस्टम) यह सेना के कंट्रोल रूम में होगा। इसकी रेंज अब करीब 50 मीटर होगी। जब कोई नागरिक या सैनिक भूस्खलन के दौरान मलबे के नीचे फंस जाता है, तो घड़ी के सेंसर दबाव में आ जाएंगे और सक्रिय हो जाएंगे। यह तुरंत रिसीवर को सिग्नल प्राप्त करेगा। एक घड़ी से भेजा गया एक रेडियो सिग्नल (रेडियो सिग्नल) प्राप्त होने पर, नियंत्रण कक्ष में अलार्म सक्रिय हो जाएगा। जैसे ही आप मलबे के नीचे व्यक्ति के करीब पहुंचेंगे, संकेत एक मजबूत चेतावनी देगा। इससे आपदा के समय जल्दी से सहायता पहुंचाना और निकालना आसान हो जाएगा।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply