Ads

वरिष्ठ नागरिक भाजपा को फिर से सत्ता में लाएंगे-के एल अरोड़ा

92

वरिष्ठ नागरिक भाजपा को पुनः सत्ता में लाने के लिए अहम भूमिका निभाएंगे, देश में 15 करोड़ 40 लाख वरिष्ठ नागरिक हैं, एक वरिष्ठ नागरिक केवल 3 मतदाताओं को प्रभावित कर भाजपा के पक्ष में मतदान कराने में सफल हो जाए तो 61 करोड़ 40 लाख मत भाजपा को मिलेंगे और जिस पार्टी को उत्तर प्रदेश में 60 करोड़ मत मिल जाए उसे कोई भी सत्ता में आने से रोक नही पाएगा।

loading...

यह विचार भाजपा वरिष्ठ नागरिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक के एल अरोड़ा ने स्थानीय तुलसी पैलेस में आयोजित भाजपा वरिष्ठ नागरिक प्रकोष्ठ के महानगर स्तरीय सम्मेलन एवं सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 92 लाख मतदाता है इसके आधे से अधिक मतदाता जिस पार्टी के पक्ष में जाएंगे वहीं सरकार बनाएगा। आज मोदी और योगी की सरकारों ने जिस प्रकार प्रदेश में विकास की गंगा बहाई है, उससे गांव, गरीब और किसान सभी का उत्थान हुआ है, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ शौचालय योजना, निशुल्क रसोई गैस देने के लिए उज्ज्वला योजना, निशुल्क बिजली कनेक्शन देने के लिए सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री जीवन सुरक्षा योजना आदि योजनाओं का लाभ सीधे-सीधे लाभार्थियों को मिल रहा है। कश्मीर से धारा 370 हटाना हो या तीन तलाक कानून को लागू करना और अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने का मार्ग प्रशस्त करने जैसे कार्यों से प्रदेश की जनता के दिलों में मोदी और योगी ने अपना स्थान बनाया है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी वरिष्ठ नागरिकों को सम्मान देती है। इस मौके पर प्रकोष्ठ के ब्रज क्षेत्र संयोजक प्रदीप कुमार गुप्ता, भाजपा महानगर अध्यक्ष राकेश शंखवार राजेंद्र बौहरे, डॉ लक्ष्मी नारायण यादव, सुनील शर्मा, सुनील टंडन, भगवान दास शंखवार चंद्र, प्रकाश गुप्ता आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ नेता सत्यवीर गुप्ता, अध्यक्षता वरिष्ठ नागरिक प्रकोष्ठ के महानगर अध्यक्ष केशव देव चौसईंया ने की।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.