Rice Cultivation: : चावल की खेती कर देगी किसानों को अमीर…! बस ‘इस’ बीमारी से करें बचाव

0 51

Rice Cultivation : भारत में इस समय खरीफ का मौसम चल रहा है। दोस्तों हमारे देश में खरीफ सीजन में बहुत सी फसलों की खेती की जाती है। इसमें धान की फसल भी शामिल है। हमारे देश के साथ-साथ हमारे राज्य में भी कई किसानों ने धान की खेती की है।

यह तस्वीर है कि राज्य के चावल उत्पादक किसान इस समय फसल प्रबंधन के काम में लगे हुए हैं। इस बीच पिछले कुछ दिनों से राज्य में हो रही भारी बारिश और उसके बाद हुए जलवायु परिवर्तन से किसानों की चिंता भी बढ़ गई है. धान किसानों द्वारा वैज्ञानिक तरीके से खेती करने के बावजूद धान की फसल में रोग बढ़ता ही जा रहा है।

विशेष रूप से अगस्त से अक्टूबर की अवधि के दौरान, हर साल हम धान की फसल पर विभिन्न कीड़ों का प्रकोप देखते हैं। इस दौरान हर साल लीफ रैप लार्वा रोग का संकट उत्पन्न हो रहा है। ऐसे में किसानों के लिए यह बहुत जरूरी है कि वे अपनी धान की फसल की समय पर निगरानी करें और पत्ता कर्लर दिखाई देते ही उसे रोक दें।

लीफ रैप लार्वा लक्षण

धान की फसल में इस इल्ली के प्रकोप से पौधे सूखने लगते हैं, जिससे धान की फसल की गुणवत्ता बिगड़ने लगती है। वास्तव में, लीफरोलर कीड़े पत्तियों को अंदर की ओर घुमाकर खिलाते हैं, जिससे पौधे पर सफेद धारियाँ दिखाई देती हैं।

इस समस्या का असर जल्दी दिखाई नहीं देता और धीरे-धीरे यह आसपास के अधिकांश पौधों में फैल जाता है। ये कैटरपिलर पौधों से हरे पदार्थ को अवशोषित करते हैं, जिससे पत्तियां सफेद हो जाती हैं।

चावल के पौधों में केवल हरे तत्व ही कान बनाने में मदद करते हैं, लेकिन पत्तियों में अमृत पौधों को भोजन बनाने में असमर्थ बना देता है और कमजोर हो जाता है, जिससे फसल बेकार हो जाती है।

अक्सर, धान की फसलों में यूरिया के अत्यधिक प्रयोग से चावल के पौधों की हरियाली बढ़ जाती है, जिसके परिणामस्वरूप फसल में बड़ी संख्या में पत्ते लुढ़कने वाले लार्वा बन जाते हैं।

लीफ रैप लार्वा का नियंत्रण

लीफरोलर की समस्या को समय रहते रोकना बहुत जरूरी है। इसके लिए अगस्त से अक्टूबर तक धान की फसल में लगातार निगरानी व बचाव के उपाय किए जाएं।

धान की फसल में यूरिया का उपयोग संतुलित तरीके से करना चाहिए, क्योंकि उर्वरकों के अत्यधिक प्रयोग से मिट्टी और फसल पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और कीट और रोग की संभावना बढ़ जाती है।

यदि पत्ती रोल का संक्रमण देखा जाता है तो आप फसल पर 7.5 किग्रा प्रति एकड़ की दर से पडना, रीजेंट या पाथेरा कीटनाशक का छिड़काव भी कर सकते हैं।

किसान चाहें तो फसल पर 10 किलो मिथाइल पैराथिन 2% प्रति एकड़ की दर से छिड़काव कर सकते हैं।

कृषि विज्ञानी लीफ-रोलिंग वर्म की रोकथाम के लिए प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में 200 मिली मोनोक्रोटोफॉस 36 एसएल मिश्रित छिड़काव करने की सलाह देते हैं।

इन बातों का ध्यान रखें

मौसम साफ होने पर ही धान की फसल में कीटनाशकों का छिड़काव करना चाहिए, क्योंकि बारिश होने पर कीटनाशक बह जाते हैं और फसल की सुरक्षा संभव नहीं होती है।

बिना किसी नुकसान के धान की फसल पर कीट को नियंत्रित करने के लिए विशेषज्ञ की सलाह के अनुसार किसी कृषि विज्ञानी से परामर्श लें और कीटनाशकों का छिड़काव करें।

फसल में निराई-गुड़ाई करते रहें ताकि खरपतवारों का प्रबंधन किया जा सके। विशेषज्ञों का कहना है कि खरपतवारों की बढ़ती संख्या फसल की ओर कीटों और बीमारियों को आकर्षित करती है।

धान की फसल की सुबह-शाम निगरानी करें और अत्यधिक घास उगने पर उसे खींच लें।

खेत के बांधों को साफ रखें और फसल पर नीम आधारित कीटनाशकों का छिड़काव करें।

 

और पढ़ें : 

Tata Cheapest Car : ये है Tata की सबसे सस्ती कार, आपके बजट में आसानी से फिट

Maruti car launching: खत्म हुआ इंतजार..! मारुति इस दिन लॉन्च करेगी सबसे सस्ती कार

भारत में कार का सपना देखने वालों के लिए बेस्ट 5 सस्ती कारें

फेसबुक लिंक : FACEBOOK

 

 

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply