झारखंड-बिहार के कई जिलों में हीट वेव का रेड अलर्ट, 17 जून से राहत की उम्मीद

0 319
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

पूरा उत्तर भारत इस वक्त भीषण गर्मी की चपेट में है. हीट वेव मॉनसून की सुस्त चाल के कारण फिलहाल आने वाले कुछ दिनों तक इस भीषण गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद भी नहीं है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अपने पूर्वानुमान में कहा है कि अगले चार दिनों तक गर्मी से राहत मिलने की संभावना नहीं है. इस दौरान उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, चंडीगढ़ और झारखंड में तापमान 42 से 46 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने का अनुमान है. भीषण गर्मी को देखते हुए झारखंड के कई जिलों में रेड और ऑरेन्ज अलर्ट जारी किया गया है.

आईएमडी ने कहा है कि भीषण गर्मी का सामना कर रहे इन राज्यों को 17 जून से राहत मिलने की संभावना है क्योंकि उसके बाद इन राज्यों में मॉनसून की सक्रियता से तापमान में गिरावट देखी जा सकती है. बता दें कि केरल में समय पर पहुंचने के बावजूद, महाराष्ट्र और गुजरात में मानसून की गति धीमी हो गई है. यदि अगले 48 घंटों में मानसून आगे नहीं बढ़ता है, तो उत्तर भारत में इसके आगमन में एक सप्ताह तक की देरी हो सकती है. इसका सीधा असर यहां के तापमान और खेती पर पड़ेगा. लोगों को और अधिक दिनों तक भीषण गर्मी का सामना करना पड़ सकता है.
खेती पर पड़ता है असर
इन राज्यों में मॉनसून की देरी का सीधा असर कृषि पर पड़ता है. क्योंकि उत्तर भारत के इन राज्यों की गिनती प्रमुख कृषि राज्यों में होती है और यहां पर काफी मात्रा में खाद्यान्न का उत्पादन होता है. मानसून की देरी भारतीय कृषि क्षेत्र पर भी नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है. कृषि क्षेत्र भारत की 3.5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देता है, और मानसून इसकी जीवनरेखा मानी जाती है. इसलिए समय से मॉनसून का आना भी बेहद जरूरी है.

ये भी पढ़ेंः रुक गया मॉनसून! बारिश में हो सकती है देरी, लू-गर्मी से जल्द राहत के आसार नहीं

कई राज्यों में अलर्ट
उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है. झारखंड में गर्मी को लेकर देखते हुए 24 में से 18 जिलों में रेड और ऑरेन्ज अलर्ट जारी किया गया है. झारखंड में गर्मी के कारण स्कूलों में 15 जून तक छुट्टी दे दी गई है, जबकि पश्चिम बंगाल में स्कूल के समय में बदलाव किया गया है इसके अलावा, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश और बंगाल के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है. वहीं दक्षिण, पश्चिम, मध्य और पूर्वोत्तर राज्यों में भारी बारिश हो रही है. महाराष्ट्र के ठाणे जिले में भूस्खलन में दो लोगों की मौत हो गई है, और इस महीने अब तक कुल 14 लोगों की वर्षा जनित घटनाओं में मौत हुई है.(

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.