अक्षय तृतीया पर इस दान से बनेगा राजयोग आम आदमी बन सकता है राजा, पूजा के दौरान पढ़िए यह कथा

0 957
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

वैशाख शुक्ल तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया मनाई जाती है। इस साल अक्षय तृतीया 22 अप्रैल, शनिवार को है। अक्षय तृतीया के दिन दान करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है, जो हमेशा आपके साथ रहती है। अक्षय तृतीया पर दान करना आपके लिए राजयोग बन सकता है। इससे एक आम आदमी भी राजा बन सकता है। अक्षय तृतीया के दान से प्राप्त पुण्य के कारण अगला जन्म उत्तम, भाग्य चमकता है। अक्षय तृतीया की कथा में दान का महत्व बताया गया है। आइए पढ़ते हैं अक्षय तृतीया की कथा।

अक्षय तृतीया की कथा

भाशिव पुराण की कथा के अनुसार शाकलनगर में धर्मदास नाम का एक वैश्य रहता था। वह एक धार्मिक व्यक्ति थे। वह हमेशा पूजा-पाठ और दान-पुण्य करता रहता था। वह परोपकार में विश्वास करते थे। उन्होंने हमेशा ब्राह्मणों की सेवा की और भगवान की भक्ति में समय बिताया। एक दिन उन्हें अक्षय तृतीया के बारे में पता चला। किसी ने उन्हें बताया कि अक्षय तृतीया पर किया गया दान अक्षय पुण्य देता है। तब उन्होंने निश्चय किया कि इस बार अक्षय तृतीया पर वह पूजा और दान करेंगे।

वे वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को प्रात: काल उठे। उन्होंने पवित्र नदी में स्नान किया। फिर पितरों को याद करें और उनकी पूजा करें। उनके लिए कुर्बानी दी। फिर अपने इष्ट देव की पूजा की। फिर उसने ब्राह्मणों को अपने घर भोजन के लिए आमंत्रित किया। उन्हें भोजन कराया, फिर गेहूं, चना, सोना, दही, गुड़ आदि का दान किया।

अक्षय तृतीया के दिन धर्मदास के घर ऐसा आतिथ्य पाकर सभी ब्राह्मण बहुत प्रसन्न हुए और उन्हें आशीर्वाद देकर उनके घर चले गए। अब वे हर साल अक्षय तृतीया पर इसी विधि से पूजा और दान करते थे। उसकी इस हरकत से परिजन परेशान थे। पत्नी ने कहा अक्षय तृतीया पर ऐसी हरकतें बंद करो परिवार के लोग उसके खिलाफ हो गए, लेकिन उसने अक्षय तृतीया पर पूजा और दान करना नहीं छोड़ा।

यह कई सालों तक चला। एक दिन धर्मदास चल बसे। पूर्व जन्म में उनका जन्म द्वारिका नगरी में हुआ था। वह कुशावती का राजा बना। अक्षय तृतीया के दिन पूजा और दान से प्राप्त अक्षय पुण्य के कारण अगले जन्म में राजयोग बना और वह राजा बना। इस जन्म में भी वे एक धार्मिक व्यक्ति थे। उनके पास दौलत और शोहरत की कोई कमी नहीं थी।

अक्षय तृतीया के दिन पूजा के दौरान यह कथा सुननी चाहिए। इससे अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.