किचन में भूल से भी नहीं प्रवेश करेगा राहु दोष, बस महिलाएं कर लें ये उपाय

1,300

घर की महिलाओं को खुद से ज्यादा अपने परिवार की चिंता रहती है, उनके दिमाग में हमेशा यह चलता रहता है कि उनके परिवार पर किसी भी तरह का आंच न आए। आज हम इसी विषय में आपको कुछ बताने जा रहे हैं जो महिलाओं के लिए जानना बेहद आवश्यक है। दरअसल हम बात करने जा रहे हैं किचन की जिसमें फैली गंदगी इंसान के सेहत पर तो असर डालती ही है इसके साथ ही साथ वास्तुदोष भी लाती है।
जी हां आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि गंदे किचन के कारण घर में राहुदोष की एंट्री हो जाती है जो पूरे परिवार के लिए हानिकारक साबित होती है। इसलिए महिलाओं को अक्सर ध्यान रखना चाहिए कि घर के साथ साथ वो किचन में भी सफाई रखें। अगर आप वास्तुशास्त्र में विश्वास रखते हैं तो उसमें बताया गया है कि घर की सभी जगहों से ज्यादा किचन को अधिक साफ-सुथरा रखना चाहिए, जो व्यक्ति ऐसा नहीं करता है तो इससे वास्तुदोष उत्पन्न हो सकता है।

तो आइए जानते हैं किचन से जुड़ी ऐसी ही विशेष जानकारी जिसे अनजाने में कई महिलाएं कर देती हैं और इसका नतीजा पूरे परिवार को भुगतना पड़ता है।

कैसा होना चाहिए किचन

सबसे विशेष बात तो ये बता दें कि कभी भी किचन का आकार लंबा नहीं होना चाहिए क्योंकि ज्यादा लंबा किचन होता है तो उससे भी राहुदोष हो सकता है। इतना ही नहीं किचन से निकलने वाली धुआं भी राहुदोष का कारण बनता है। इसके अलावा अगर किचन का रंग फीका होने लगे तो उसे दोबारा पेंट करवाएं क्योंकि इससे वास्तुदोष पैदा होता है।
वास्तु दोष के कारण आते हैं कीड़े

loading...

वैसे आप अपने रसोई भले ही वास्तु की दिशा के अनुरूप रखे हो लेकिन खास बात ये है कि अगर उसमें गैस, फ्रिज, सिंक और अन्य सामान सही दिशा में ना रखा हो तो इससे कीड़े-मकौड़े आने लगते हैं और इससे वहां पर नेचुरल लाइट्स का ना आना भी वास्तु दोष का कारण बनता है।

गलत दिशा से आती है रिश्तों में दरार

बताते चलें कि अगर आपके किचन की दिशा गलत है तो आपके रिश्तों में दरारें आने लगती है। इसलिए संभवत यही प्रयास करें कि हमेशा किचन दक्षिण-पूर्वी दिशा में ही हो। अगर इस दिशा में बनाना संभव ना हो तो उत्तर-पश्चिम भाग में बना लें और किचन का दरवाजा उत्तर या उत्तर-पूर्व दिशा की तरफ ही बनाएं।

टूटे हुए दरवाजे बढ़ाते हैं नेगिटिव एनर्जी

वास्तु में यह भी बताया गया है कि अगर किचन में टूटे हुए नल, दरवाजे, उखड़े हुए प्लास्टर, दीवारों में आई दरारें हैं या फिर टूटी-फूटी चीजे और अंधेरे कोनों में रहता है तो ऐसे में वहां नकारात्मक उर्जा सबसे ज्यादा प्रवेश करती है।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Comments are closed.