तेज ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बीच बैंकों का तिमाही मुनाफा 31 से 115 प्रतिशत तक बढ़ा

0 92

मुद्रास्फीति के चुनौतीपूर्ण समय और परिणामी ब्याज दरों में वृद्धि के बावजूद भारतीय बैंकिंग क्षेत्र उच्च ऋण वृद्धि और एनपीए में कमी के साथ शानदार प्रदर्शन कर रहा है। पीएसयू बैंकों में 31 दिसंबर, 2022 को समाप्त तीसरी तिमाही में बैंकों के अच्छे प्रदर्शन के बाद अब निजी बैंकों ने उत्साहजनक परिणाम पेश कर दमदार प्रदर्शन किया है। निजी बैंकों के आज घोषित नतीजों में बैंकों के शुद्ध लाभ में 31 फीसदी से 117 फीसदी की भारी उछाल दर्ज की गई है. इसके साथ ही बैंकों के बैड लोन की स्थिति यानी एसेट क्वालिटी में भी सुधार देखा गया है। बैंकों के एनपीए में गिरावट देखी गई है। इस प्रकार असाधारण यस बैंक को छोड़कर सभी निजी बैंकों का प्रदर्शन मजबूत रहा है।

बैंकिंग दिग्गज आईसीआईसीआई बैंक ने आज घोषणा की कि 31 दिसंबर, 2022 को समाप्त तीसरी तिमाही में उसका शुद्ध लाभ पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 34.2 प्रतिशत बढ़कर 8312 करोड़ रुपये हो गया है। जबकि शुद्ध ब्याज आय 34.6 प्रतिशत बढ़कर 16,465 करोड़ रुपये हो गई है। बैंक ने 3.96 प्रतिशत से 4.65 प्रतिशत का शुद्ध ब्याज मार्जिन हासिल किया है।बैंक की शुद्ध गैर-निष्पादित संपत्ति (एनपीए) 0.61 प्रतिशत से घटकर 0.55 प्रतिशत हो गई है।

कोटक महिंद्रा बैंक ने चौतरफा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और तीसरी तिमाही में शुद्ध लाभ में 31 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 2792 करोड़ रुपये और शुद्ध ब्याज आय में 30 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 5653 करोड़ रुपये हासिल किया।बैंक का परिचालन लाभ 43% बढ़ा प्रतिशत से 3850 करोड़ रु. निजी क्षेत्र के उभरते बैंक आईडीएफसी फर्स्ट बैंक लिमिटेड ने भी 31 दिसंबर 2022 को समाप्त तीसरी तिमाही में शानदार नतीजे हासिल किए हैं। बैंक का शुद्ध लाभ पिछले वर्ष की समान अवधि के 281 करोड़ रुपये की तुलना में 115 प्रतिशत बढ़कर 605 करोड़ रुपये हो गया है। बैंक की शुद्ध ब्याज आय 2580 करोड़ रुपये की तुलना में 27 प्रतिशत बढ़कर 3285 करोड़ रुपये हो गई है।

यस बैंक ने 31 दिसंबर, 2022 को समाप्त तीसरी तिमाही के लिए असाधारण रूप से कमजोर नतीजों की घोषणा की है। बैंक का शुद्ध लाभ पिछले वर्ष की समान अवधि के 266.43 करोड़ रुपये की तुलना में 80.66 प्रतिशत घटकर 51.5 करोड़ रुपये रहा है। बैंक की शुद्ध ब्याज आय 1764 करोड़ रुपये की तुलना में 11.7 प्रतिशत बढ़कर 1970.6 करोड़ रुपये हो गई है। संपूर्ण एनपीए पिछले साल इसी अवधि में 14.7 प्रतिशत की तुलना में यह घटकर दो प्रतिशत रह गया है। जबकि नेट एनपीए 5.3 फीसदी की तुलना में घटकर 1 फीसदी रह गया है.

 

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply