पटाखों का प्रदूषण हो सकता है आंखों के लिए हानिकारक, जानें क्या करें क्या न करें?

161

दिवाली रोशनी का त्योहार है, जिसे पूरे देश में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। देवी लक्ष्मी की पूजा, प्रकाश व्यवस्था, रंगोली, पटाखे और घर की सजावट इस त्योहार की खुशी का एक अभिन्न अंग है। लेकिन ध्यान रहे कि इस खुशी को मनाने में थोड़ी सी भी लापरवाही आपके लिए मुश्किलें बढ़ा सकती है। त्योहारों के दौरान, सभी को सलाह दी जाती है कि वे भोजन, दिनचर्या और इसे मनाने के तरीकों के बारे में विशेष सावधानी बरतें। उत्साह के बीच हमेशा याद रखें स्वास्थ्य आपकी पहली प्राथमिकता है, इससे किसी भी तरह से समझौता नहीं करना चाहिए। इस दिवाली त्योहार के दौरान वजन और आंखों के स्वास्थ्य के साथ-साथ मधुमेह का भी हमेशा ध्यान रखना चाहिए।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक अक्सर पटाखे फोड़ते समय लोगों में आंखों की समस्या देखी गई है। पटाखों के इस्तेमाल में जरा सी भी लापरवाही आंखों को चोट पहुंचा सकती है, लेकिन पटाखों से फैले प्रदूषण से आंखों को लंबे समय तक नुकसान होने का भी खतरा रहता है। इस तरह के जोखिम विशेष रूप से बच्चों में देखे जाते हैं।

आइए जानें कि आंखों को स्वस्थ रखने और इससे जुड़े किसी भी तरह के जोखिम को कम करने के लिए दिवाली के त्योहार के दौरान किन खास बातों का ध्यान रखना चाहिए।

नेत्र रोग विशेषज्ञों का कहना है कि हाथों और उंगलियों के बाद दीवाली के दौरान पटाखों को लेकर लापरवाही से प्रभावित होने वाला दूसरा सबसे आम अंग आंख है। पटाखों के धुएं से आंखों में जलन और चुभने के साथ लाल होने का खतरा रहता है। इसके अलावा पटाखों से लगी चोट से आंखों में चोट लग सकती है, खून के थक्के बन सकते हैं या पुतली को नुकसान हो सकता है।

बोतलें लोगों के मुंह से रॉकेट दागती हैं, जिससे सबसे ज्यादा आंखों में चोट लगती है। पटाखों के पास फटने से आंखों की रोशनी भी जा सकती है। आइए जानते हैं ऐसी समस्याओं से बचने के लिए क्या करें और क्या न करें?

आंखों को स्वस्थ रखने के लिए क्या करें?

पटाखे फोड़ते समय सुरक्षा को लेकर कोई लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए।
वयस्कों को बच्चों की निगरानी करनी चाहिए जब आतिशबाजी का उपयोग किया जाता है। पटाखों को हमेशा शरीर से दूर ही जलाएं।
आतिशबाजी क्षेत्र से सभी ज्वलनशील पदार्थ हटा दें।
पटाखे फोड़ने के लिए एक लंबी छड़ी का प्रयोग करें। ताकि इससे होने वाले विस्फोट से हाथों या आंखों पर कोई असर न पड़े।
अपनी आंखों की सुरक्षा के लिए पटाखे बंद करते समय सुरक्षात्मक चश्मे पहनें।
अनार जैसे पटाखों से सबसे ज्यादा आंख और चेहरे पर चोट लगती है, इन्हें हमेशा दूर से ही जलाएं।
आंखों में जलन, जलन या चोट लगने की स्थिति में तुरंत किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें।

और किसी भी तरह की परेशानी से बचने के लिए इन सावधानियों को नज़रअंदाज न करें।
छोटे बच्चों को कभी भी पटाखे न फोड़ने दें।
जलते हुए पटाखों को न फेंके, इससे चोट लग सकती है।
पटाखों को छूने के बाद एक ही हाथ से आंखों को न छुएं, इससे आंखों में केमिकल घुसने का खतरा रहता है।
अगर कोई केमिकल आंखों में चला जाए तो तुरंत आंखों और पलकों को पानी से धो लें।
अगर आंखों में जलन या खुजली हो तो रगड़ें नहीं, हाथ धोने के तुरंत बाद आंखों को साफ पानी से धो लें।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.