PNB और ICICI बैंक ने ग्राहकों को दिया झटका, अब बढ़ेगा आपका खर्च

0 130

देश के तीन बैंकों ने अपने कर्ज की दरों में इजाफा किया है। इसमें सरकारी और निजी दोनों क्षेत्र के बैंक शामिल हैं। बैंकों के इस कदम के बाद लोगों की जेब पर खर्च का बोझ बढ़ेगा. रिजर्व बैंक की एमपीसी की बैठक अगले हफ्ते होने वाली है।

रिजर्व बैंक

पंजाब नेशनल बैंक आईसीआईसीआई बैंक और बैंक ऑफ इंडिया ने फंड लेंडिंग बेस्ड रेट की अपनी सीमांत लागत में वृद्धि की है। नई दरें 1 दिसंबर, 2022 से प्रभावी हैं। बैंकों के इस कदम के बाद कर्ज और महंगा हो जाएगा और ईएमआई भी बढ़ जाएगी। एमसीएलआर में बढ़ोतरी का सीधा असर होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन की ईएमआई पर पड़ेगा।

एमपीसी की बैठक होनी है

भारतीय रिजर्व बैंक ने आखिरी बार सितंबर के महीने में रेपो रेट में बढ़ोतरी की थी। अगले हफ्ते 5 दिसंबर से एक बार फिर रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक होने जा रही है। बैठक शुरू होने से पहले ही बैंकों ने अपने कर्ज को और महंगा करना शुरू कर दिया है.

आईसीआईसीआई बैंक ने सभी अवधि के लिए एमसीएलआर में 10 आधार अंकों की बढ़ोतरी की है। पंजाब नेशनल बैंक में पांच आधार अंकों की बढ़ोतरी हुई है। बैंक ऑफ इंडिया ने MCLR में 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की है।

आईसीआईसीआई बैंक ने कितना उठाया?

आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट के मुताबिक, एक महीने के कर्ज के लिए एमसीएलआर दर 8.05 फीसदी से बढ़ाकर 8.15 फीसदी कर दी गई है। तीन महीने, छह महीने की MCLR को घटाकर क्रमश: 8.20 फीसदी और 8.35 फीसदी कर दिया गया है. एक साल की एमसीएलआर को बढ़ाकर 8.40 फीसदी कर दिया गया है। पहले यह दर 8.30 फीसदी थी।

पीएनबी ने एमसीएलआर में भारी बढ़ोतरी की है

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक पीएनबी ने एक साल के कर्ज के लिए एमसीएलआर 8.05 फीसदी से बढ़ाकर 8.10 फीसदी और छह महीने के लिए 7.75 फीसदी से बढ़ाकर 7.80 फीसदी कर दिया है। ओवरनाइट एमसीएलआर 7.40 फीसदी से बढ़कर 7.45 फीसदी हो गया। महीने के लिए MCLR को 7.45 फीसदी से बढ़ाकर 7.50 फीसदी कर दिया गया है. तीन महीने की एमसीएलआर को 7.55 फीसदी से बढ़ाकर 7.60 फीसदी कर दिया गया है।

बैंक ऑफ इंडिया ने बड़ी बढ़त की है

बैंक ऑफ इंडिया ने सभी अवधि के लिए एमसीएलआर में 25 आधार अंकों की बढ़ोतरी की है। बैंक ऑफ इंडिया का एक साल का MCLR पहले के 7.95 फीसदी से घटकर अब 8.15 फीसदी हो गया है. छह महीने की एमसीएलआर 7.65% से बढ़कर 7.90% हो गई। यह रातोंरात 7.05 प्रतिशत से बढ़कर 7.30 प्रतिशत हो गया। तीन महीने की एमसीएलआर 7.45 फीसदी से बढ़कर 7.70 फीसदी हो गई।

एमसीएलआर क्या है?

किसी भी बैंक के एमसीएलआर में बढ़ोतरी से कार, पर्सनल और होम लोन महंगा हो जाता है। एमसीएलआर बढ़ने से आपकी लोन ईएमआई बढ़ जाती है। एमसीएलआर में बढ़ोतरी नए कर्जदारों के लिए शुभ संकेत नहीं है। इससे उन्हें और महंगा कर्ज मिलेगा। मौजूदा ग्राहकों के लिए लोन रीसेट की तारीख आने पर लोन की ईएमआई बढ़ जाएगी। एमसीएलआर वह न्यूनतम दर है जिस पर बैंक ग्राहकों को कर्ज देते हैं

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply