पपीते की खेती : लगाओ पपीते का बगीचा, बन जाओगे करोड़पति, मानसून में ही करना होगा ‘यह’ काम

0 66

पपीते की खेती: देश में किसानों ने पिछले कई दशकों से आय (किसान आय) में वृद्धि के अनुरूप फल बाग की खेती की ओर अपना रुख किया है। राज्य में किसान अपनी आय बढ़ाने के लिए बड़ी मात्रा में बाग भी लगा रहे हैं।

दोस्तों हमारे राज्य में विभिन्न फलों की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। इसमें मुख्य रूप से अनार, अंगूर, पपीता, सीताफल आदि बाग वर्ग की फसलें शामिल हैं। पपीते के बगीचे भी राज्य में विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। पपीते की फसल भी किसानों के लिए लाभदायक होती जा रही है।

दरअसल, पपीते की खेती का मतलब है लाखों रुपये की कमाई, कुछ ऐसा। लेकिन मानसून के दौरान रोग पपीते के बागों को प्रभावित करते हैं और पपीते का उत्पादन काफी कम हो जाता है। ऐसे में पपीता किसानों को लाखों रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है.

आज हम इस बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करने जा रहे हैं कि मानसून के दौरान पपीते की फसलों को प्रभावित करने वाली बीमारियों को कैसे नियंत्रित किया जा सकता है। तो दोस्तों बिना समय बर्बाद किए आइए इस बहुमूल्य जानकारी के बारे में विस्तार से जानते हैं।

बरसात के मौसम में रखें पपीते के बगीचे की देखभाल

कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार मानसून के दौरान बाग की फसलें विभिन्न बीमारियों की चपेट में आ जाती हैं। पपीता, एक बाग की फसल, में भी मानसून के दौरान बीमारियों की एक बड़ी घटना होती है। दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं कि इस समय पूरे भारत में बारिश हो रही है।

ऐसे में पपीते को पानी से बचाना जरूरी है, क्योंकि अगर पपीते के खेत में 24 घंटे पानी भर जाए तो पपीते को बचाना नामुमकिन हो जाता है. इस समय पपीते के चारों ओर 4-5 इंच ऊंचाई की परत बना लेनी चाहिए।

पपीते को रिंग स्पॉट वायरस रोग से बचाने के लिए 2% नीम के तेल में 0.5 मिली/लीटर स्टिकर मिलाकर आठवें महीने तक छिड़काव करना चाहिए। पपीते के पेड़ में उच्च गुणवत्ता वाले फल और रोग रोधी गुण पैदा करने के लिए आठवें महीने तक एक महीने के अंतराल पर 5 ग्राम यूरिया, 04 ग्राम जिंक सल्फेट और 04 ग्राम बोरान प्रति लीटर पानी का छिड़काव करना चाहिए।

दोस्तों हमारे देश में पपीते की सबसे खतरनाक बीमारी जड़ सड़न के प्रबंधन के लिए जरूरी है कि हेक्साकोनाजोल 2 मिली दवा प्रति लीटर पानी में घोलकर मिट्टी को एक महीने के अंतराल पर अच्छी तरह से भिगो दें। उपरोक्त घोल से मिट्टी को भिगो दें और आठवें महीने तक यह काम करते रहें। एक बड़े पौधे को भिगोने के लिए 5-6 लीटर औषधीय घोल की आवश्यकता होती है।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply