लोग जलाने जा रहे थे चिता इतने में ही मुर्दा लेने लगा साँसे इसके बाद जो हुआ वह था बेहद खौफनाक

1,636

यह दुनिया इतनी बड़ी है लेकिन कोई भी बिना चमत्कार के मानते नहीं हैं जब तक चमत्कार आंखों के सामने ना हो उस पर विश्वास नहीं करते। ऐसा ही एक चमत्कार बनारस में हुआ जब एक मृत व्यक्ति चिता पर लेटाने से पहले ही जिंदा हो गया। जिसे देखकर उसके नाते रिश्तेदार सब अचंभे में पड़ गएPeople were going to burn the pyre and started taking the dead in this breath, what happened after that is very scary sensesश्मशान घाट मे लाये 21 साल के व्यक्ति को वापिस से जीवित देखकर आसपास के लोग हैरान रह गए और श्मशान घाट में भगदड़ मच गई। 21 साल के व्यक्ति को सड़क दुर्घटना में बहुत गंभीर चोटें आई थी जिसके बाद बीएचयू अस्पताल में डॉक्टर ने इलाज के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। उसके मृत होने के बाद उसके नाते-रिश्तेदारों से चार कंधों पर लेकर श्मशान घाट ले कर गए। वहां जाकर उसके अंतिम संस्कार की तैयारी पूरी की गई उसके नाते-रिश्तेदार बहुत रो-बिलख रहे थे क्योंकि वह मात्र 21 साल की उम्र में मृत हो गया था

सरकारी नौकरियां ही नौकरियां : 

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

loading...

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

बनारस के गंगा घाट पर बुधवार की शाम को जब उसके शरीर को और चिता पर लेट आने से पहले गंगा जी में नहलाया गया। जैसे ही उसे पानी में ले गए वैसे ही उसके हाथ पैर चलने लगे और मानो की शरीर में सांस लौट आई थी। उसके शरीर में कुछ हरकतें देखने के बाद उस के नाते रिश्तेदार खुश हो गए और जल्दी से  हॉस्पिटल के ट्रामा सेंटर में लेकर पहुंचे

  तुरंत डॉक्टर हरकत में आया और उसका इलाज शुरू कर दिया और जैसे ही उसका इलाज शुरू किया मात्र 15 मिनट बाद वह दोबारा से मृत घोषित कर दिया गया अबकी बार डॉक्टर से पूरी तरह से जांच पड़ताल कर लेने के बाद ही यह घोषित किया कि वह पूरी तरह से मृत हो चुका है उस के नाते रिश्तेदारों ने माना जैसे कि मात्र 15 मिनट के लिए ही उसकी जान वापस आई थी यह कोई चमत्कार से कम नहीं है। जिसे देखते हैं और उस के नाते रिश्तेदार जितने दुखी हुए हैं उतने ही हैरान भी हो गए।

21 वर्षीय व्यक्ति का नाम विकास था और वह बनारस में शादियों में पानी की सप्लाई किया करता। उन दिनों वह अपने काम के दौरान ही सही जा रहा था जिस दिन उसका एक्सीडेंट हुआ और वह घायल हुआ जिसके बाद उसे हॉस्पिटल में रखा गया 2 दिन और आज के बाद उसे मृत घोषित कर दिया गया। दुर्घटना के बाद उसे एक मड़ुआडीह स्थित एक नामी अस्पताल में भर्ती कराया। उसके माता-पिता इस घटना से बहुत नाराज हैं उनको ऐसा लगता है कि शायद उस समय विकास का सही इलाज मिलता तो वह आज जिंदा होता

उसके माता-पिता उन हस्पताल वालों पर केस करना चाहते हैं क्योंकि उनका कहना है यदि विकास को किसी और हॉस्पिटल में ले जाते तो शायद मैं आज बच जाता। क्या आपको भी ऐसा लगता है कि हॉस्पिटल की लापरवाही से उसकी जान चली गई। अब जो भी है उसके माता-पिता अपने 21 वर्षीय बेटे को तो खो चुके हैं उसका दुख हमको भी है लेकिन यदि यह डॉक्टर की लापरवाही से हुआ है तो उन्हें इंसाफ जरूर लेना चाहिए

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.