पनामा पेपर्स: अमिताभ को अतुल्य भारत का ब्रांड ऐंबैसडर बनाने पर फैसला टला

0 14

मेगास्टार अमिताभ बच्चन को अतुल्य भारत का ब्रांड बनाने पर फैसला टाल दिया गया है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक पनामा पेपर्स में नाम आने के कारण अमिताभ बच्चन को ‘अतुल्य भारत’ का ब्रांड ऐंबैसडर बनाने का निर्णय रोक दिया गया है. क्लीन चिट मिलने के बाद ही ब्रांड ऐंबैसडर बनाने पर फैसला होगा.

क्या है मामला
पनामा पेपर्स के लीक हुए दस्तावेज के मुताबिक, 1993 में अमिताभ बच्चन को चार शिपिंग कंपनियों में डायरेक्टर बनाया गया था. इनमें एक सी बल्क शिपिंग कंपनी लिमिटेड को ब्रिटिश वर्जिन आइसलैंड और बाकी तीन -लेडी शिपिंग लिमिटेड, ट्रेजर शिपिंग लिमिटेड और ट्रैंप शिपिंग लिमिटेड को बहामाज में पंजीकृत कराया गया. हालांकि, इन कंपनियों की टर्न ओवर 5000 से 50,000 डॉलर दिखाया गया, लेकिन ये शिपिंग में करोड़ों डॉलर का कारोबार करती थीं. अमिताभ बच्चन इन चारों कंपनियों में मैनेजिंग डायरेक्टर भी थे, जबकि बाकी डायरेक्टर फर्म के कॉरपोरेट और फाइनेंशियल सर्विस प्रोवाइडर प्रतिनिधि थे. उमेश सहाय और डेविड माइकल पेट ने ये चारों कंपनियां स्थापित कीं थी.अमिताभ ने आरोपों को किया खारिजबॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन ने पनामा दस्तावेज लीक में अपना नाम कथित तौर पर दो कर पनाहगाहों में अपतटीय इकाइयों से संबंधित होने के तौर पर आने के बाद आज उन कंपनियों से कोई संबंध होने से इनकार किया और कहा कि हो सकता है कि उनके नाम का ‘‘दुरुपयोग’ किया गया हो.नयी दिल्ली. मेगास्टार अमिताभ बच्चन को अतुल्य भारत का ब्रांड बनाने पर फैसला टाल दिया गया है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक पनामा पेपर्स में नाम आने के कारण अमिताभ बच्चन को ‘अतुल्य भारत’ का ब्रांड ऐंबैसडर बनाने का निर्णय रोक दिया गया है. क्लीन चिट मिलने के बाद ही ब्रांड ऐंबैसडर बनाने पर फैसला होगा.

अमिताभ ने आरोपों को किया खारिज

बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन ने पनामा दस्तावेज लीक में अपना नाम कथित तौर पर दो कर पनाहगाहों में अपतटीय इकाइयों से संबंधित होने के तौर पर आने के बाद आज उन कंपनियों से कोई संबंध होने से इनकार किया और कहा कि हो सकता है कि उनके नाम का ‘‘दुरुपयोग’ किया गया हो.

 

आभार: पनामा पेपर्स

loading...

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.