बुधवार बड़ी एकादशी चुपचाप यहां रखें एक कौड़ी आने वाली सात पुस्ते भी करेंगे पैसों पर राज

189

एक कौड़ी हमारे वैदिक सनातन धर्म में एकादशी का व्रत एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रखता है प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं परन्तु जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या 24 से बढ़कर 26 हो जाती है वर्षभर के प्रत्येक मास में 2 एकादशीयां आती हैं एक शुक्ल पक्ष और दूसरी कृष्ण पक्ष में जो भक्त एकादशी का व्रत पूरे विधि विधान से करता है उसकी समस्त मनोकामनाएं भगवान श्रीहरि विष्णु शीघ्र ही पूरी करते हैं।

On Wednesday, keep big Ekadashi silently; even seven books coming from a penny will rule over money

भारतीय हिन्दू संस्कृति में हर महीने की 11वीं तिथि यानी एकादशी (ग्यारस) को

व्रत-उपवास किया जाता है यह तिथि अत्यंत पवित्र तिथि मानी गई है

वर्षभर की दो एकादशियों को पुत्रदा एकादशी के नाम से जाना जाता है।

एक श्रावण और दूसरी पौष मास के शुक्ल पक्ष में आने वाली एकादशी

loading...

इन दोनों एकादशियों को पुत्रदा एकादशी कहते हैं अंग्रेजी कैलेंडर के

अनुसार वर्तमान में पौष शुक्ल पक्ष की एकादशी दिसंबर जनवरी के महीने में पड़ती है

जबकि जुलाई अगस्त के महीने श्रावण शुक्ल पक्ष की एकादशी पड़ती है।

इसे पुत्रदा एकदशी पवित्रोपना एकादशी पवित्रा एकादशी के नाम से जाना जाता है

श्रावण शुक्ल एकादशी का नाम पुत्रदा है उसकी कथा के सुनने मात्र से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है

एक बार की बात है कुन्तीपुत्र महाराज युधिष्ठिर ने भगवान श्रीकृष्ण से पूछा कि

हे भगवन श्रावण शुक्ल एकादशी का क्या नाम है इस व्रत को करने की विधि तथा इसका माहात्म्य भी कृपा करके बतायें भगवान मधुसूदन कहने लगे कि हे राजन इस एकादशी को पुत्रदा एकादशी के नाम से जाना जाता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.