पड़ोस की नाबालिग को लाकर पति और देवर से कराया रेप, गर्भवती हुई तो पुलिस ने करा दिया राजीनामा

1,701

अपराध: पिछले कुछ समय से नशा और दुष्कर्मों के लिए सुर्खियों में चल रहे मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले से फिर एक सामूहिक दुष्कर्म की बड़ी लेकिन संदिग्ध खबर आ रही है। आरोप के अनुसार एक महिला ने ही पड़ोस की नाबालिग से अपने पति व देवर से रेप कराया, इसमें एक अन्य महिला भी सहयोगी रही। बाद में नाबालिग के गर्भवती होने पर मामला थाने पहुंचा तो पुलिस ने पीड़ित को डांट फटकार कर भगा दिया।

खबर मिली है कि, जिले के बैराड़ थाना क्षेत्र के ग्राम मारौरा खालसा में रहने वाली एक 14 वर्षीय नाबालिग के अनुसार उसके पड़ौस में रहने वाली प्रीति पत्नी पवन धाकड़ और आशा प्रजापति पत्नी मुकेश प्रजापति एक दिन उसे उसके घर से बुलाकर अपने घर ले गई थीं। जिस कमरे में पवन धाकड़ और दिलीप धाकड़ थे, उसमें ले जाकर बाहर से कमरा बंद कर दिया। कमरे में उन दोनों ने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। आरोपियों ने पीडि़ता को इतना डराया धमकाया कि उसने किसी से घटना का जिक्र ही नही किया।

खुलासा उस समय हुआ जब गर्भ ठहरने पर नाबालिग ने अपनी मां को पूरा वाक्या बताया। आरोप है कि, इसके बाद पीडि़ता को लेकर उसके माता-पिता बैराड़ थाने पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उल्टे पीडि़ता एवं उसके माता-पिता पर राजीनामा के लिए दबाव बताया और रिपोर्ट दर्ज नहीं की। ऐसे आरोप बुधवार को कथित पीडि़ता के परिजनों ने समाजबंधुओं के साथ मिलकर पुलिस अधीक्षक शिवपुरी सौंपे गए ज्ञापन में किया है।

loading...

पुलिस अधीक्षक को दिए ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि, करीब एक माह पूर्व 14 वर्षीय नाबालिग बालिका अपने घर पर अकेली थी, उसके माता-पिता खेत पर गए हुए थे। दोपहर के समय पास में ही रहने वाली प्रीति धाकड़ और आशा प्रजापति आईं और बालिका को बहला – फुसलाकर अपने घर ले गईं और एक कमरे में बंद कर दिया, जिसमें पवन धाकड़ और दिलीप प्रजापति पूर्व ही बैठे हुए थे।

पीडि़ता के अनुसार दोनों प्रार्थिया को डरा धमकाकर मुंह बंद कर दिया और उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म कर दिया। इसके बाद दोनों ने बालिका को इकलौते भाई एवं माता-पिता को मारने की धमकी दी जिससे पीडि़ता डर गई और उसने घटना के बारे में किसी को नहीं बताया।

जब पीडि़ता का गर्भ ठहर गया तो उसने अपनी मां को घटना के बारे में बताया और माता-पिता के साथ 29 जुलाई को बैराड़ थाने में रिपोर्ट लिखाने पहुंची, लेकिन पुलिस ने पीडि़ता की रिपोर्ट नहीं लिखी और थाने के एक कमरे में बंद कर उस पर राजीनामा करने का दबाव बनाया गया। पीड़िता का आरोप है कि उसके साथ महिला पुलिस ने कपड़ेे उतारकर बेल्ट से बेरहमी से मारपीट की जिसके निशान पीडि़ता के शरीर पर हैं।

पीड़िता का आरोप है कि पुलिस द्वारा उस पर दबाव बनाया गया कि वह पवन धाकड़ एवं दिलीप प्रजापति के नाम बलात्कार की घटना में न बताये तथा अन्य किसी व्यक्तियों के नाम बताए। इसके बाद पुलिस ने पानी भरने की घटना को लेकर हुआ विवाद बताकर जबर्दस्ती राजीनामा करा दिया गया और धमकी देकर पीडि़ता के माता-पिता एवं अन्य परिजनों के हस्ताक्षर करा लिए गए। पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर पीडि़ता ने दोषियों के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करने की मांग की है।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.