माता सीता जी ने भी किया था एक घोर पाप, यकीन नहीं कर पाएंगे आप

1,637

एक कथा के अनुसार माता सीता अपने बगीचे के अंदर भ्रमण कर रही थी भ्रमण करते समय उनकी नजर एक पेड़ पर बैठे तोते के जोड़े पर पड़ी वह जुड़ा माता सीता के बारे में ही बातें कर रहा था। वह सीता जी के भविष्य के बारे में बातें कर रहे थे यह सुनकर माता को बहुत ही आश्चर्य हुआ और उनके मन में अपने भविष्य के बारे में और अधिक बातें जानने की जिज्ञासा हो गई। माता सीता ने अपने महल के पहरेदारों को बोलकर उस जोड़े को बंदी बना लिया और अपने भविष्य के बारे में अधिक जानकारी लेने लगी। और उन्होंने यह भी पूछा कि वह उनके पति के बारे में इतना कैसे जानते हैं। तब तोते की जोड़ी ने बताया कि वह वाल्मीकि आश्रम के एक पेड़ पर रहते थे और वह हर समय भगवान राम और सीता माता की ही बातें होती थी। और उस तोते ने यह भी कहा कि भविष्य में भगवान श्री राम आपके स्वयंवर में शिव जी का धनुष तोड़कर आपसे विवाह रचाएंगे।

loading...

Mother Sita had also committed a terrible sin, you will not be able to believe

माता सीता ने उस तोते की जोड़ी को अपने महल में रखने की जिद करने लगी। लेकिन नर तोते ने कहा कि वह बंदी बनकर नही रह सकता उसका घर खुला आसमान हैं। तब सीता माता ने मादा तोते को बंदी बना लिया तब नेट तोते ने कहा कि उसकी पत्नी इस समय व्यवस्था में है। उसे इस वक्त सबसे ज्यादा मेरी जरूरत है। तो कृपया करके हमें यहां से जाने दें लेकिन माता नहीं मानी। इस पर नर तोते को क्रोध आ गया और उसने यह श्राप दिया कि आप भी अपनी ग्रहण गर्भावस्था के दौरान अपने पति से दूर रहेगी। और नर तोता कुछ समय बाद ही अपने प्राण त्याग देता है। और कहा जाता है वहीं नर तोता उस धोबी के रूप में जन्म लेता है और माता सीता के चरित्र पर सवाल उठाता है। जिस कारण माता सीता को श्री राम त्याग देते हैं। और उन्हें अपने गर्भावस्था के समय अपने पति से दूर रहना पड़ता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.