अद्धभुत ज्ञान: सभी रोगों से छुटकारा दिलाने वाला महाशक्तिशाली हनुमान मंत्र

2,542

मंत्र ज्ञान अपने आप में अद्धभुत ज्ञान को छुपाये हुए है। प्राचीन ग्रंथो से पता चला है कि यदि कोई व्यक्ति पूर्ण विश्वास के साथ मंत्र जप सिद्ध कर लेते है तो उसके सभी कार्य सफल होने लगते है। हनुमान जी के पास अष्टसिद्धि और नौ निधियाँ थी। उनके लिए कोई कार्य असम्भव नहीं था। शास्त्र अनुसार यदि बीमार व्यक्ति इस मंत्र का जप करता है तो वह जल्दी ठीक होने लग जाता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

shri-hanuman-ke-sindur-lagane-ki-kahani

महाशक्तिशाली हनुमान बाहुक पाठ –

छप्पय सिंधु तरन, सिय-सोच हरन, रबि बाल बरन तनु

भुज बिसाल, मूरति कराल कालहु को काल जनु

गहन-दहन-निरदहन लंक निःसंक, बंक-भुव

जातुधान-बलवान मान-मद-दवन पवनसुव

कह तुलसिदास सेवत सुलभ सेवक हित सन्तत निकट

गुन गनत, नमत, सुमिरत जपत समन सकल-संकट-विकट

स्वर्न-सैल-संकास कोटि-रवि तरुन तेज घन

उर विसाल भुज दण्ड चण्ड नख-वज्रतन

पिंग नयन, भृकुटी कराल रसना दसनानन

कपिस केस करकस लंगूर, खल-दल-बल-भानन

कह तुलसिदास बस जासु उर मारुतसुत मूरति विकट

संताप पाप तेहि पुरुष पहि सपनेहुँ नहिं आवत निकट |

इस पाठ के जप से रोगी जल्दी ठीक होने लगता है और सकारत्मक ऊर्जा बढ़ने लगते है। इसे हर कोई व्यक्ति पढ़ सकता है।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.