LIC जीवन प्रगति योजना: इस पॉलिसी में 200 रुपये के निवेश से मिलेंगे 28 लाख रुपये, जानिए कैसे?

0 121
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

एलआईसी जीवन प्रगति योजना: भारतीय जीवन बीमा निगम, देश की सबसे बड़ी सरकारी बीमा कंपनी अपने ग्राहकों को विभिन्न नीतियां प्रदान करती है। इस बीमा कंपनी के पास बच्चों से लेकर वरिष्ठ नागरिकों तक के लिए योजनाएं हैं। किसी भी उम्र का व्यक्ति एलआईसी पॉलिसी खरीद सकता है और अपना भविष्य सुरक्षित कर सकता है।

एलआईसी की ऐसी ही एक योजना है जीवन प्रगति योजना। इसमें आप रोजाना 200 रुपये का निवेश कर सकते हैं और 28 लाख रुपये का फंड जुटा सकते हैं। अगर आप एलआईसी में निवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो आप लाइफ प्रोग्रेस स्कीम पॉलिसी ले सकते हैं।

20 साल के निवेश में 28 लाख का फंड –

एक जीवन प्रगति पॉलिसी धारक को निवेश पर उत्कृष्ट रिटर्न के साथ आजीवन सुरक्षा मिलती है। यदि कोई पॉलिसीधारक 200 रुपये प्रतिदिन की दर से इस योजना में निवेश करता है तो वह एक महीने में 6000 रुपये का निवेश करेगा। अगर वह इस योजना में 20 साल के लिए निवेश करते हैं तो उन्हें मैच्योरिटी पर 28 लाख की राशि मिलेगी। इसके साथ ही आपको रिस्क कवर भी मिलेगा।

पांच साल में बढ़ा जोखिम कवर-

एलआईसी जीवन प्रगति योजना की एक विशेषता यह है कि निवेशकों का जोखिम कवर हर पांच साल में बढ़ता है। इसका मतलब है कि आपको मिलने वाली राशि पांच साल में बढ़ जाती है। डेथ बेनिफिट्स की बात करें तो पॉलिसीधारक की मृत्यु के बाद सम एश्योर्ड, सिंपल रिवर्सनरी बोनस और फाइनल बोनस का भुगतान एक साथ किया जाता है।

दायरा कैसे बढ़ता है? –

जीवन प्रगति पॉलिसी की अवधि न्यूनतम 12 वर्ष और अधिकतम 20 वर्ष है। 12 से 45 वर्ष की आयु के लोग इस पॉलिसी का लाभ उठा सकते हैं। आप इस पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान तिमाही, छमाही और वार्षिक आधार पर कर सकते हैं। इस पॉलिसी की न्यूनतम सम एश्योर्ड 1.5 लाख रुपये है और इसकी कोई अधिकतम सीमा नहीं है।

मान लीजिए कोई 2 लाख रुपये की पॉलिसी लेता है, तो उसका मृत्यु लाभ पहले पांच साल तक सामान्य रहेगा। इसके बाद छह साल से लेकर 10 साल तक का कवरेज 2.5 लाख रुपये होगा। वहीं, 10 से 15 साल में कवरेज बढ़कर 3 लाख रुपये हो जाएगा। इस तरह पॉलिसीधारक की सीमा बढ़ जाएगी।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.