कपड़ों कि तरह पति बदलती रही ज्योति, तलाब में तैरती मिली अर्धनग्न -जली लाश

2,142

अपराध खबर:- ज्योति अपनी पसंद का मर्द देखकर प्रपोज करती थी। स्वीकृति मिलते ही शादी भी कर लेती थी, लेकिन ज्यादा दिन किसी के साथ टिकती न थी। साल-छः माह में पति बासी लगने लगता था और वह पति का घर छोड़ माँ के पास वापस लौट आती।

कुछ दिन वह माँ के पास रहती फिर नए पति की या दूसरे शब्दों में नए मर्द की तलाश में निकल पड़ती। नया मर्द पसंद आते ही शादी कर लेती, कुछ समय बाद उसे भी छोड़कर फिर माँ के पास लौट आती। बार -बार यही कहानी दोहराती। इस तरह 30 साल की होने तक ज्योति करीब एक दर्जन पति बदल चुकी थी।

ज्योति के बारे में इस तरह की बातें इन दिनों मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले के बैराढ़ थाना क्षेत्र में जगह -जगह सुनाई दे रही हैं। वह भी तब, जबकि ज्योति अब इस दुनिया में ही नहीं है, उसकी मौत हो चुकी है। जानकारी के अनुसार 25 जुलाई को पुलिस को बैराढ़ थाना क्षेत्र के पचीपुरा स्थित तालाब में पानी में तैरती एक युवती की अर्धनग्न लाश मिली थी।

युवती की लावारिश लाश जली हुई हालत में थी। प्रथम द्रष्टया ही मामला स्पष्ट रूप से हत्या का नजर आया। लेकिन काफी कोशिश करने पर भी जब लाश की शिनाख्त न हो सकी तो, पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद बतौर लावारिश उसको दफना दिया।

बुधवार को एक महिला ने थाने पहुंचकर अपनी युवा बेटी के गायब होने की सूचना दी तो, पुलिस ने तालाब में मिली लावारिश लाश के कपडे दिखाए। महिला ने कपडे अपनी बेटी के माने, तब लाश जमींन खुदवाकर निकलवाई गई।

महिला ने उसकी शिनाख्त अपनी बेटी ज्योति पुत्री बादामी आदिवासी, उम्र 35 साल, निवासी ग्राम रजौआ थाना बैराढ़ के रूप में कर दी।

मृतका ज्योति की माँ ने पुलिस को बताया कि, वह बिना बताए कई-कई दिनों तक घर से बाहर रहती थी, ऐसा पहले कई बार कर चुकी थी। इसी बजह से उसने पुलिस को सूचना देने में देर कर दी।

इसी तरह पूरे क्षेत्र में यह भी चर्चा है कि, पिछले कुछ सालों में ज्योति जितनी बार गायब हुई, उतनी बार ही उसने शादी की थी, अब तक वह 10-12 पति बना चुकी थी।

जानकारी के मुताबिक अब पुलिस उसके कथित पतियों का पता लगाने में जुटी है। पतियों की संख्या पता चलने पर संभव है, हत्या करने वाले का पता चल सके। ज्योति की जिंदगी और मौत की असलियत भी तो आरोपी का पता लगने पर ही चल सकेगी, अभी तो चर्चाएं भर हैं। (डेमो पिक नेट की सहायता से)

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.