अस्थमा से मुकाबला खास ख्याल रखना आपके लिए ,बेहद जरूरी है

310

ठंड के मौसम में अस्थमा जैसे सांस के रोग परेशान करने लगते हैं। लेकिन कुछ सावधानियां बरतकर आप इससे आसानी से अपना बचाव कर सकती हैं।सर्दी जब चरम पर होती है तो उस समय चलने वाली ठंडी और शुष्क हवाएं अस्थमा के मरीजों में अटैक का खतरा बढ़ा देती हैं। अस्थमा बहुत तकलीफ देने वाली बीमारी होती है और अगर सर्दियों में इसका अटैक आये तो मरीज के लिए जानलेवा साबित हो सकता है। ऐसे में सर्दियों में अस्थमा के अटैक से बचने के लिए आपको कुछ सावधानियां बरतने और खतरे के प्रति आगाह रहने की जरूरत है।

सर्दी में बाहर कम निकलें

घर के बाहर चलने वाली ठंडी हवा अस्थमा के मरीजों की परेशानी बढ़ा देती है। ऐसे में आप अधिक से अधिक घर के अंदर रहें। आवश्यकतावश घर से बाहर निकलना ही पड़े तो नाक और चेहरे को अच्छी तरह से ढक लें।

हाथों की सफाई है जरुरी

आपकी हथेली की गंदगी नुकसानदायक साबित हो सकती है। इसलिए अपने हाथों को कुछ समयांतराल पर धोते रहें। हाथों को साबुन-पानी से धोते रहे। इस तरह की साफ-सफाई आपको न केवल स्वस्थ रखेगी,बल्कि अस्थमा के अटैक से भी बचाएगी।

व्यायाम के समय रखें ख्याल

अगर आप अस्थमा के मरीज हैं और सर्दियों में घर से बाहर एक्सरसाइज करना चाहते हैं तो कुछ बातों का ख्याल जरूर रखें। व्यायाम से 15-20 मिनट पहले इनहेलर का इस्तेमाल जरूर करें। आपात स्थिति से निपटने के लिए इनहेलर भी अपने साथ रखें। जरूरत पड़ने पर ठंडी हवाओं से बचने के लिए अपने चहरे पर स्कार्फ बांध लें।

इंफेक्शन से बचाव

अगर आप अस्थमा की मरीज हैं तो अपना खास ख्याल रखना आपके लिए बेहद जरूरी है। कभी ऐसे मरीजों के सम्पर्क में न आएं, जो किसी प्रकार के इंफेक्शन से ग्रसित हो। ऐसे मरीज आपको न केवल बीमार करते है, बल्कि आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी नुकसान पहुंचाते हैं।

खानपान में बदलाव

अस्थमा के रोगियों को सर्दियों में डाइट में भी थोड़ा बदलाव करना जरूरी है। हमेशा रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली चीजें ही खाएं। साथ ही अपने खाने में तरल पदार्थों को शामिल करें, जो फेफड़ें में जमा बलगम को पिघलाने का काम करते हैं।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.