EWS सर्टिफिकेट बनवाने की सोच रहे हैं तो जान लीजिये ये बात

If you are thinking of getting EWS certificate then know this thing

आज भी देश में करोड़ों लोग आर्थिक रूप से काफी कमजोर हैं। आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण इन लोगों को शिक्षा, स्वास्थ्य और विभिन्न क्षेत्रों में अवसर खोजने में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

वहीं पिछड़े क्षेत्रों से आने वाले लोगों को आगे बढ़ाने में जाति आधारित आरक्षण प्रमुख भूमिका निभाता है। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने जाति आरक्षण जैसे आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को समान अवसर प्रदान करने के लिए ईडब्ल्यूएस प्रमाणपत्र की सुविधा शुरू की है।

ऐसे में गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर लोग अपना ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट बनाकर विभिन्न क्षेत्रों में आगे बढ़ने के लिए इसका लाभ उठा सकते हैं। इस आरक्षण के तहत केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा खींची गई नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण की सुविधा है।

आप अपने नजदीकी तहसीलदार के पास जाकर ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट प्राप्त कर सकते हैं। जिन लोगों की सालाना आय 8 लाख या उससे कम है वे ईडब्ल्यूएस सर्टिफिकेट के लिए आवेदन कर सकते हैं। वहीं, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के वर्ग इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं।

इसे विशेष रूप से सामान्य वर्ग के लोगों के लिए लॉन्च किया गया है। वहीं, शहरों में रहने वाले लोगों के पास 200 वर्ग मीटर या उससे कम आवासीय जमीन होनी चाहिए। अगर कोई व्यक्ति गांव में रहता है। ऐसे में उसके पास पांच एकड़ से कम आवासीय जमीन होनी चाहिए।

यदि आप ईडब्ल्यूएस प्रमाणपत्र के लिए आवेदन करने जा रहे हैं तो आपको पहचान पत्र, राशन कार्ड, स्व-घोषणा प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, आयु प्रमाण, जाति प्रमाण, आय प्रमाण, निवास प्रमाण पत्र, मोबाइल नंबर, पैन कार्ड और अन्य दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।