अगर आपको प्रेग्नेंट होने में दिक्कत हो रही है तो हो सकती है पीसीओडी की परेशानी

0 309
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है बदलती लाइफस्टाइल की वजह से कई महिलाएं पीसीओडी मरीजों की शिकार हो चुकी हैं। आइए जानते हैं आखिर पीसीओडी क्या है?पीसीओडी महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी बीमारी है। इससे मासिक धर्म चक्र से लेकर गर्भावस्था (PCOD प्रभाव गर्भावस्था पर) जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं।

पीसीओडी में मासिक धर्म के दौरान रक्तस्राव, साथ ही मासिक धर्म के बाद कई दिनों तक खून के धब्बे पीरियड्स ब्लड स्पॉट मेडिकल भाषा में पीसीओडी का मतलब पॉलीसिस्टिक ओवरी डिजीज है। बदलती लाइफस्टाइल की वजह से कई महिलाएं पीसीओडी की शिकार हो जाती हैं। स्वास्थ्य पर पीसीओडी के प्रभावों के बारे में जानें।पीसीओडी गर्भ धारण करने की क्षमता को बुरी तरह प्रभावित करता है।

इससे गर्भावस्था के दौरान कई समस्याएं हो सकती हैं पीसीओडी का असर आपके लुक पर भी पड़ता है। इससे बालों का झड़ना, त्वचा की समस्या और वजन बढ़ना जैसी समस्याएं हो सकती हैं।पीसीओडी में हॉर्मोन्स के असंतुलन में हमेशा उतार-चढ़ाव होता रहता है। इसका नींद और भूख पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। पीसीओडी में ब्लड वेसल्स की समस्या हो सकती है। इससे हृदय रोग का खतरा भी बढ़ जाता है। पीसीओडी में थकान और सांस लेने में तकलीफ जैसी बीमारियां अक्सर होती हैं।पीसीओडी में खून के थक्के जमने की समस्या, मासिक धर्म के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग या कम ब्लीडिंग, साथ ही अनियमित माहवारी गंभीर समस्याएं हैं। इस बीमारी में अंडाशय में कई छोटी-छोटी गांठें बन सकती हैं, इसलिए महिलाओं को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

पीसीओडी कारण वास्तव में क्या है?

पीसीओडी होने के कई कारण होते हैं। लेकिन उन महिलाओं के लिए जिनकी मां या बड़ी बहन इससे पीड़ित हैं।

उन्हें यह रोग होने की संभावना अधिक होती है।

पीसीओडी की समस्या हार्मोनल असंतुलन के कारण भी होती है। हार्मोनल उतार-चढ़ाव कई कारणों से हो सकता है। उचित आहार का अभाव,

सोने और जागने का गलत समय, बहुत अधिक शराब पीना या गलत दवा का लंबे समय तक सेवन करना रोग का मूल कारण है।

पीसीओडीवर उपचार

पीसीओडी की समस्या को उचित इलाज से नियंत्रित किया जा सकता है। साथ ही, उपचार के बाद गर्भावस्था में कोई जटिलता नहीं होती है।

वहीं मासिक धर्म चक्र से जुड़ी समस्याएं पूरी तरह से ठीक हो जाती हैं।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.