ऐसे करें प्लास्टिक के चावल की पहचान? घर बैठे इस ट्रिक से करें पहचान

256

आजकल कई चीजों में मिलावट होती है। खाने-पीने से लेकर हर चीज की खरीदारी करते समय बहुत सावधानी बरतनी होगी। क्या आपकी थाली में चावल प्लास्टिक के नहीं बने हैं? आज के समय में चावल ऐसे भी हैं जिन्हें पकाने के बाद भी पता नहीं चल पाता है कि असली है या नकली. प्लास्टिक के चावल आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इस तरह के प्लास्टिक चावल से कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है। आपको यह जानकर हैरानी हो सकती है लेकिन यह सच है। आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं, जिससे आप असली और नकली चावल में फर्क कर सकते हैं

बासमती चावल इस प्रकार है

बासमती चावल की महक इतनी तेज होती है कि उसे बस उसी से पहचाना जा सकता है। इसकी खेती भारत, पाकिस्तान और नेपाल में की जाती है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि यह चावल ठीक होने के साथ-साथ सुगंधित भी है। पकने पर इनकी लंबाई दोगुनी हो जाती है। इस चावल की खासियत यह है कि यह पकने के बाद चिपकता नहीं है, बल्कि थोड़ा फूल जाता है। इसी खूबी की वजह से इसे पूरे देश में पसंद किया जाता है।

चूने की मदद से भी नकली चावल की पहचान की जा सकती है. इसके लिए एक बर्तन में चावल के कुछ नमूने लें। इसमें थोड़ा सा चूना और पानी मिलाकर एक घोल तैयार करें। – अब इस घोल में चावल भिगोकर कुछ देर के लिए रख दें. कुछ देर बाद अगर चावल का रंग बदल जाता है या रंग उड़ जाता है तो समझ जाता है कि यह चावल नकली है।

ऐसे करें प्लास्टिक के चावल की पहचान

  1. थोड़े से चावल आग में डाल दें, अगर चावल को जलते समय प्लास्टिक के जलने जैसी गंध आए तो समझ लें कि यह प्लास्टिक के चावल हैं।

  2. अगर चावल उबलने के बाद कन्टेनर के ऊपर मोटी परत की तरह दिखने लगे तो समझ लें कि यह चावल नकली है.

  3. गर्म तेल में अगर नकली चावल डाल दिया जाए तो वह पिघलने लगता है.

  4. पानी में डालने पर नकली चावल तैरने लगते हैं.

  5. इसके अलावा आप चावल को पकने के बाद कुछ दिनों के लिए ऐसे ही छोड़ देने का यह तरीका भी अपना सकते हैं, अगर चावल प्लास्टिक के बने हैं तो उसमें से गंध नहीं आएगी क्योंकि वह सड़ते नहीं हैं.

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.