कैसे मनाएं सावन के नियम, जान लें बेलपत्र को शिवलिंग कैसे चढ़ाएं

987

लाइफस्टाइल:- भगवान शिव को सावन मास में बहुत ही सरलता से प्रसन्न किया जा सकता है। प्राचीन काल से ही भोलेनाथ की पूजा में उन्हें बेलपत्र को अर्पित किया जाता है। किंतु इसे चढ़ाने के कुछ नियम होते है जिनका पालन आवश्यक है अन्यथा भक्त को उसका लाभ नही मिल पाता, आइये जाने उन नियमो को।

How to Celebrate Savan's Law, Know How to Offer Shivalinga to Belpet

मित्रों बेलपत्र के वृक्ष की पत्ती और फल दोनो को ही शिव जी पर अर्पित किया जाता है। आपको शायद जानकर हैरानी होगी कि बेलपत्र कभी बासी नही होता। इतना ही नही स्कन्द पुराण के अनुसार इसे धोकर पुनः प्रयोग किया जा सकता है। शिव जी पर इसे 3 पत्तियों के समूह में अर्पित किया जाता है।

loading...

How to Celebrate Savan's Law, Know How to Offer Shivalinga to Belpet

इससे कम या ज्यादा पत्तियों को शिव जी पर नही अर्पित किया जाता है। इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए भोलेनाथ पर अर्पित की जाने वाले बेलपत्र कभी कटे फटे या फिर उन में छेद न हो। अन्यथा भक्त को उसका लाभ नही मिलता।

How to Celebrate Savan's Law, Know How to Offer Shivalinga to Belpet

यदि कोई भक्त भोलेनाथ से संतान प्राप्ति या अन्य किसी विशेष इच्छा की पूर्ति के लिए कामना कर रहा हो तो पेलपत्र पर चंदन से ॐ नमः शिवाय लिखकर दाएं हाथ की अनामिका और अंगूठे से शिवलिंग पर अर्पित करें। बेलपत्र कभी भी सोमवार के दिन नही तोड़ना चाहिए। सोमवार की शिव पूजा के लिए आप एक दिन पहले ही इसे तोड़कर रख ले। भोलेनाथ आपकी सभी मनोकामनाओं को पूरा करते है।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.