आप की किस्मत की चाबी शनिदेव के साथ हनुमान जी भी होंगे प्रसन्न शनिवार से लेकर मंगलवार तक करें यें उपाय

0 707

 किस्मत की चाबी जी को संकटमोचन और शनिदेव को सजा देने वाला माना जाता है। शिव पुराण के अनुसार हनुमान जी को ग्यारवां रूद्र माना जाता है और शनिदेव भगवान शंकर के परम भक्त और चेले भी हैं जब शनिदेव किसी पर क्रोधित हो जाते हैं तो उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है मंगलवार और शनिवार दोनों ही दिन हनुमानजी और शनिदेव के उपाय करके इनकी कृपा पाई जा सकती है इन उपायों को करने से हनुमान जी कृपा से साढ़ेसती और शनि दोषों से मुक्ति मिलती है। शनिवार व मंगलवार के दिन ब्रह्म मुहुर्त में उठकर स्नानादि कार्यों से निवृत्त होकर नवग्रह मंदिर में हनुमान जी और शनिदेव पर जल अर्पित करके विशेष सामग्रियों से पूजन करें यह पूजा शाम के समय भी कर सकते हैं। पूजा करते समय शनिदेव को गंध, चावल, फूल, तेल, तिल, काले वस्त्र आदि और हनुमान जी को सिंदूर, लाल चंदन, फूल, चावल व लाल वस्त्र अर्पित करें।

Hanuman ji will also be happy with the key of your luck, please take measures from Saturday to Tuesday.

शनिवार के दिन शनिदेव को तिल और रामभक्त हनुमान को गुड़ से बने व्यंजन का भोग लगाएं

ऐसा करने से वे शीघ्र प्रसन्न होते हैं इसके साथ ही उनकी कृपा भक्त पर सदैव बनी रहती है।

हनुमान जी पर चमेली का तेल अर्पित करें इससे साढ़ेसती से मुक्ति मिलेगी।

बरगद से आठ पत्ते लेकर काले धागे में पिरोकर हनुमान जी को अर्पित करने पर

शनि बाधा से मुक्ति मिलेगी। हनुमान जा को बादाम अर्पित करें।

उसके बाद आधे बादाम काले कपड़े में बांधकर घर की दक्षिण दिशा में छुपा कर रखने से

शनिदेव का कोप शांत हो जाता है।

अगर आप अपने जीवन में पैसों की तंगी, दरिद्रता को

लेकर परेशान है तो चालीस दिनों तक किया

जानेवाला यह उपाय आपको आपकी परेशानी से हमेशा के लिए छुटकारा दिला देगा

आपको रोज सुबह या शाम के वक्त हनुमान जी के मंदिर में जाकर सरसों के तेल का

दीया मिट्टी के दीपक में जलाना चाहिए। आप मंदिर में दीया जलाने के

बाद कुछ देर तक वहां बैठे और हनुमान चालीसा का भी पाठ कर लें।

मंगलवार और शनिवार के दिन दीया जलाने के बाद सिंदूर तिलक जरूर लगाएं।

40 दिनों तक रोजाना इस उपाय को करने के बाद आपकी हर मनोकामना पूरी हो जाएगी

और पैसे की किल्लत भी हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी ध्यान रहें

किसी भी दिन यह उपाय खंडित नहीं होना चाहिए अन्यथा

उसे फिर पहले दिन से शुरू करना होगा

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply