आजादी के बाद पहली बार वायुसेना की नई शाखा से सरकार की 3400 करोड़ की बचत होगी

68

भारतीय वायु सेना की 90वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में शनिवार सुबह चंडीगढ़ के वायुसेना स्टेशन पर एक औपचारिक परेड का आयोजन किया गया। वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वी.आर. चौधरी ने परेड का निरीक्षण किया, जिसके बाद मार्च पास्ट किया गया। कार्यक्रम में चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार ने भारतीय वायु सेना में अधिकारियों के लिए वेपन सिस्टम विंग की स्थापना को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद पहली बार वायुसेना में एक नया ऑपरेशनल विंग बनाया जा रहा है।

एयर चीफ मार्शल ने दावा किया कि इस विंग के बनने से सरकार को उड़ान प्रशिक्षण की लागत को कम करके 3,400 करोड़ रुपये से अधिक की बचत करने में मदद मिलेगी। इस कार्यक्रम में पश्चिमी वायु कमान के एयर-ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, एयर मार्शल श्रीकुमार प्रभाकरन और कई अन्य वरिष्ठ वायु सेना अधिकारी उपस्थित थे।

अग्निपथ युवाओं को देश की सेवा में लगाने का मौका

वायु सेना प्रमुख ने कहा कि अग्निपथ योजना के माध्यम से भारतीय वायु सेना में वायु योद्धाओं को शामिल करना हम सभी के लिए एक चुनौती है। लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि यह हमारे लिए भारत के युवाओं की क्षमता का दोहन करने और इसे राष्ट्र की सेवा में लगाने का अवसर है। “हमारे पास पिछली कड़ी मेहनत, समर्पण और दूरदृष्टि की एक गौरवपूर्ण विरासत है। यह हमारे दिग्गजों के योगदान को याद रखने योग्य है जिन्होंने इस स्थिति को आगे बढ़ाया है। अब इसे शताब्दी के दशक में लाने की जिम्मेदारी हम पर है।

सुखना झील परिसर में वायु सेना दिवस फ्लाई पास्ट

वायुसेना प्रमुख जब मौके पर पहुंचे तो विंग कमांडर विशाल जैन के नेतृत्व में तीन एमआई-17वी5 हेलीकॉप्टरों ने फ्लाई पास्ट के दौरान भारतीय ध्वज फहराया। सुखना झील परिसर में वायु सेना दिवस फ्लाई पास्ट में लगभग 80 सैन्य विमान और हेलीकॉप्टर भाग लेंगे। यह पहली बार है कि भारतीय वायु सेना दिल्ली-एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र) के बाहर अपनी वार्षिक वायु सेना दिवस परेड और फ्लाई-पास्ट का आयोजन कर रही है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सुखना झील में फ्लाई पास्ट में हिस्सा लेंगे।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.