DRDO: मानव रहित लड़ाकू विमान की उड़ान; परीक्षण में ही टेकऑफ से लेकर लैंडिंग तक विमान का सफल नियंत्रण…

0 133

नई दिल्ली: ‘लड़ाकू विमान’ (लड़ाकू विमानइस विमान की खासियत यह है कि यह बिना पायलट के उड़ान भरेगा, इतना ही नहीं, विमान टेकऑफ़ से लेकर लैंडिंग तक सब कुछ अपने हाथ में ले लेगा। रक्षा अनुसंधान और विकास संस्थान (रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन) अत्याधुनिक मानवरहित हवाई वाहनों को विकसित करने में बड़ी सफलता हासिल की है। तो DRDO से लेकर ऑटोनॉमस फ्लाइंग विंग टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर (स्वायत्त फ्लाइंग विंग प्रौद्योगिकी प्रदर्शक) पहली उड़ान सफलतापूर्वक पूरी कर ली गई है।

इस उड़ान की विशेषता यह है कि यह न केवल बिना पायलट के उड़ान भर सकती है, बल्कि टेकऑफ़ से लेकर लैंडिंग तक के सभी कार्यों को बिना किसी मदद के संभाल सकेगी।

वैमानिकी परीक्षण रेंज पर सफल अभ्यास

DRDO की ओर से जारी एक बयान में स्पष्ट किया गया है कि यह अभ्यास शुक्रवार को कर्नाटक के चित्रदुर्ग में वैमानिकी परीक्षण रेंज में आयोजित किया गया था।

परीक्षण उड़ान में सफल उड़ान

मानव रहित हवाई वाहन (यूएवी) को ‘ऑटोनॉमस फ्लाइंग विंग टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर’ के रूप में भी जाना जाता है। रक्षा मंत्रालय ने विमान के बारे में अधिक जानकारी देते हुए कहा कि विमान का संचालन पूरी तरह से स्वायत्त तरीके से किया जाएगा और परीक्षण उड़ान विमान ने भी सफल उड़ान भरी है.

विकास में मील का पत्थर

इसमें टेकऑफ़, वे पॉइंट नेविगेशन शामिल है। यह विमान अगले मानव रहित हवाई वाहन चरण के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। इसे आत्मनिर्भरता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम भी बताया जा रहा है।

विमान ने अपने आप उड़ान भरी

एएनआई के अनुसार, डीआरडीओ ने एक बयान में कहा कि विमान ने सफलतापूर्वक उड़ान भरी थी और आवश्यक प्रशिक्षण लिया था। विमान को रणनीतिक रूप से बनाया गया था और यह रक्षा प्रौद्योगिकी में आत्मनिर्भरता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। विमान को वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान, बैंगलोर द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply