अपने घर के मंदिर में भूलकर कर भी ना रखें ये चीजें, वर्ना घर में फ़ैल जाएगी कंगाली

501

हर हिंदू घर मंदिर के बिना पूरा नहीं हो सकता है।किसी की आस्था के अनुसार, हर घर में मंदिर होता है। कुछ में लकड़ी, कांच और कुछ संगमरमर या संगमरमर के होते हैं। मंदिर को घर के दाहिने कोने या स्थान में रखा जाता है। आजकल, इतने नए प्रकार के मंदिर हैं कि उनमें भक्ति की वस्तुओं के भंडारण के लिए अलग-अलग बॉक्स भी होते हैं। कभी-कभी अनजाने में कुछ उलटी सीधी चीज़ें उनमे डाल देते हैं। मंदिर में जो कुछ आपने रखा है, उस पर एक नजर डालें। बहुत से लोग मंदिर में कुछ भी रखते हैं। अगर आप मंदिर में कुछ भी रख रहे हैं तो आज का विषय आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

जिस घर में हम भगवान की पूजा करते हैं वह मंदिर एक पवित्र स्थान होता है। स्वाभाविक रूप से, यह सकारात्मक प्रभाव और शांति का स्थान होना चाहिए। वास्तुशास्त्र के अनुसार स्थापित मंदिर उस घर के निवासियों के लिए स्वास्थ्य, समृद्धि और खुशी ला सकता है। एक अलग पूजा कक्ष होना आदर्श है, लेकिन महानगर में, जहां जगह की कमी है, यह हमेशा संभव नहीं होता है। ऐसे घरों के लिए आप अपनी जरूरत के हिसाब से मंदिर के लिए दीवार या घर के एक छोटे से कोने में बने मंदिर पर विचार कर सकते हैं।

मंदिर में कभी न रखें ये चीजें:

* अनजाने में सभी के मंदिर में कुछ चीजें रख दी जाती हैं। अगर वे आपके मंदिर में हैं, तो उन्हें अभी हटा दें

* पूजा के लिए यदि कोई सामग्री बची हो तो हम थैला भरकर मंदिर में रख देते हैं। लेकिन ऐसा करना ठीक नहीं है। क्योंकि ऐसी अधूरी चीजें अशांति का कारण बनती हैं। या तो पूजा के लिए लाई गई सभी सामग्री का पूरा उपयोग करें या अगर रह जाए तो इसे हटाना ही बेहतर है

* हम भगवान को माला या फूल चढ़ाते हैं। लेकिन बहुत से लोग उन फूलों को मंदिर में रखते हैं या फिर माला को मंदिर में रखते हैं। इसलिए सूखे फूल नकारात्मक ऊर्जा को फैलाते हैं। इसलिए फूल आने के बाद इसे हटाकर उसी दिन शाम को या पेड़ों में विसर्जित कर देना चाहिए। लेकिन इसे मंदिर में नहीं रखना चाहिए।

* अक्सर जब कोई मूर्ति टूट जाती है या टूट जाती है तो हम उसे मंदिर में विसर्जन के लिए रख देते हैं और वह वहीं पड़ी रहती है। ऐसी मूर्तियों को तुरंत हटा दें। क्योंकि इससे नकारात्मक ऊर्जा फैलती है और कई समस्याएं पैदा होती हैं।

* कई लोगों के घर में शंख भी होता है। शाम की पूजा के दौरान ऐसे शंख बजाए जाते हैं। लेकिन अगर आपके मंदिर में एक से अधिक शंख हैं तो भी यह शुभ नहीं माना जाता है। इसलिए मंदिर में एक से अधिक शंख न रखें।

* शिवलिंग को घर में रखने को लेकर कई लोगों को शंका होती है। शिवलिंग अत्यंत संवेदनशील है। क्योंकि अगर आप घर में शिवलिंग रखने की सोच रहे हैं तो आपको मंदिर में अपने अंगूठे से बड़ा शिवलिंग नहीं रखना चाहिए। बिना किसी सलाह के शिवलिंग को मंदिर में न लगाएं।

*कई लोगों को मंदिर में  अपने पूर्वजों की पुरानी फोटो रखने की आदत होती है। ऐसा मत करो। क्योंकि ऐसी पुरानी तस्वीरें रखना अच्छा नहीं है, इसलिए आपको उन्हें मंदिर में रखने के बजाय दीवार पर लगाना चाहिए। उसके लिए भी सही सलाह लें।

* मंदिर साफ-सुथरा होना चाहिए और उसमें कोई भी रुकावट वाली वस्तु नहीं रखना चाहिए। अगर हैं तो उन्हें ऐसे ही हटा दें। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा आएगी।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.