खाने के मामले में बच्चों के साथ न करें जबरदस्ती

0 454

सुबह से शाम तक मां अपने बच्चे के पीछे खाना लेकर भागती रहती हैं, क्योंकि उनकी यही शिकायत रहती है कि बच्चा ढंग से खाना नहीं खाता। मुश्किल तो तब आती है, जब सुबह स्कूल जाने के चक्कर में वह दूध पी कर ही दौड़ जाता है और लंच ब्रेक में भी अपने टिफिन को बि ना खाना खाए बंद कर देता है। इन सब बातों का एक ही कारण है कि बच्चे हमेशा अपनी पसंद की चीज ही खाना चाहते हैं। यदि ऐसा हो जाए तो उसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करते हुए वह पूरी तरह से एंज्वॉय करते हैं।

इस बात की टैंशन हमेशा रहती है कि बिना खाना खाए बच्चों को एनर्जी कैसे मिलेगी। इसके दो ही रास्ते उन्हें समझ में आते हैं या तो उन्हें मार कर एवं डांट कर खिला दिया जाए या फिर पैसे दे दिए जाएं कि वे कैंटीन में कुछ खा लें, लेकिन छोटे बच्चों के साथ तो यह भी नहीं किया जा सकता। दोनों ही बातें इस समस्या का हल नहीं हैं। बच्चों के साथ जबरदस्ती करने की बजाय यह जरूरी है कि खाना उनकी पसंद का बनाया जाए, ताकि खाने से उसकी दोस्ती करवाई जा सकें।

-रूटीन से हट कर बनाएं

यह तो आप भी मानती हैं कि बच्चे घर की अपेक्षा बाहर का खाना बड़ी रुचि से खाते हैं, क्योंकि घर पर वही रूटीन का सादा खाना देख कर उन्हें बोरियत होती है। बच्चों में खाने के प्रति रुचि जगाने के लिए उनके खाने की रैसिपीज में थोड़ी नवीनता लाएं, ताकि बच्चों को उनके पसंदीदा खाने के लिए स्कूल में भी लंच ब्रेक का इंतजार रहे।

-टेस्ट के साथ पौष्टिकता भी

बच्चों को दाल, सब्जी और रोटी से ज्यादा जंक फूड खाना बेहद पसंद होता है। यही कारण है कि पौष्टिक आहार की कमी उनके संपूर्ण विकास पर भी असर डालती है। उनके खाने में अंकुरित दालें, पौष्टिक सलाद, हरी सब्जी-रोटी, फल आदि को अलग-अलग आकर्षक अंदाज में परोसें। डिफरैंट तरीके से खाना बनाना तथा स्कूल के लिए पैक करना ही उन्हें खाने के लिए प्रेरित करेगा तथा वे दिन भर एनर्जी से भरपूर रहेंगे।

-वैरायटी लाएं

हर रोज सैंडविच या परांठा खाने से बच्चों में उसके प्रति बोरियत होना जायज है, क्योंकि हर दिन एक जैसा खाना किसी के लिए भी सहनीय नहीं होता। इसलिए हर दिन उनके लिए अलग से कुछ बनाने का प्रयास करें।

-खाना पकाने का स्टाइल बदलें

बच्चे खाना चाव से खाएं, इसके लिए जरूरी है कि अपना खाना पकाने का स्टाइल भी बदल दें। दाल या सब्जी बनाने का तरीका हर बार बदल दें। कभी कोई सब्जी स्टीम में तो कोई फ्राई कर तथा किसी को सिंपल अंदाज में बना लें। इसी प्रकार परांठे भी अलग-अलग हों।

-खाने की सजावट

खाने की सजावट पर भी पूरा ध्यान दें, क्योंकि स्वादिष्ट होने के साथ-साथ वह आकर्षक तरीके से परोसा हुआ भी होना चाहिए।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply