आम की गुठली को बेकार ना समझे इससे होते हैं यह 5 फायदे

2,417

आम फलों का राजा यूं ही नहीं कहा गया है। मीठे आम के स्वाद ,सुगंध और गुणों की बराबरी करना किसी भी फल के लिए संभव नहीं है। आम की किस्में जैसे दशहरी , लगड़ा , केसर , अलफांसो , सफेदा , नीलम , तोतापुरी , बंगनपल्ली , रसपुरी, हिमसागर आदि का नाम सुनकर ही मुँह में पानी आ जाता है। शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जिसे आम खाना पसंद ना हो।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

loading...

mango-seed-5-facts-and-health-benefits

आम के गुठली के बीजों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें । 1-1.5 चम्म्च इस पाउडरका सुबह शाम पानी के साथ सेवन करने से कई बिमारियों में फायदा मिलता है।

बच्चों के दस्त में 7 से 15 ग्राम आम की गुठली की गिरी और बेल के कच्चे फल के गूदे का काढ़ा बना लें। इसका प्रयोग दिन में तीन बार करना चाहिए।  गुठली की गिरी को भूनकर शहद मिलाकर चटावे तो बच्चों के दस्त ठीक हो जाते हैं।

गले में टॉन्सिल्स हो और साथ में बहोत खांसी हो तो बीजों को पानी में घिसकर लेप बनाये। आराम मिलेगा।

आम नियमित खाने से स्किन का रंग निखरता है। इससे त्वचा स्वस्थ और कोमल हो जाती है। झुर्रिया , दाग धब्बे व झाइयाँ ठीक होते है।

सुखी गुठली के पाउडर से सुबह – शाम मंजन करने से दांत मजबूत बनते है, दांतों से खूनरिसना भी बंद हो जाता है साथ ही मुहं की दुर्गंद भी गायब हो जाती है।

इसका प्रयोग बालों में हुई रुसी को दूर भगाने के लिए भी किया जाता है।

अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.