Ads

डिजिटल स्क्रीन बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को पहुंचाती है नुकसान, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

1,764
loading...

Sabkuchgyan Team, नई दिल्ली, 21 दिसम्बर 2021.। आज के बच्चे मोबाइल और लैपटॉप पर हर तरह के फिजिकल गेम्स, आउटडोर गेम्स, इंटेलिजेंस गेम्स खेलते हैं। इसलिए बच्चे का शरीर हिलता नहीं है। इसके अलावा वे मूल घंटों के लिए अपने मोबाइल के साथ बैठे दिखाई दे रहे हैं। बच्चे लगातार अपनी उंगलियों और आंखों का उपयोग करके अपने स्वयं के शारीरिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहे हैं। ऐसे में अगर माता-पिता समय पर ध्यान नहीं देते हैं तो बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य भी बिगड़ जाता है। इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जो विशेषज्ञों ने कही हैं जो आपके बच्चों के विकास के लिए मददगार हैं। इस प्रकार जानिए:-

 बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले लक्षण :-

1) बच्चे चिड़चिड़े हो जाते हैं।
2) जिद्दी बन जाते हैं ।
3) गुस्सेल बन जाते हैं।
4) कम दिखाई देता है।
5) सिरदर्द रहना।
6) एकांत में रहना।
7) डिप्रेशन में जाना।

क्या परेशानी आती है?

1) डिजिटल स्क्रीन का उपयोग करने के बाद लगातार आंखों पर जोर। इससे आंखों की मांसपेशियां प्रभावित होती हैं और आंखों की रोशनी कम हो जाती है।
2) शरीर की हलचल कम होने से बच्चे सुस्त हो जाते हैं।
3) लगातार मोबाइल पर खेलते समय बच्चों की उंगलियां उसी तरह चलती हैं। इससे कई बार उंगलियां कमजोर हो जाती हैं।
4) डिजिटल स्क्रीन की वजह से बच्चों का ध्यान लगातार स्क्रीन पर लगा रहता है। नतीजतन, बच्चे धीरे-धीरे सोचने की क्षमता खो देते हैं। नतीजतन, बच्चों का विकास कम हो जाता है।
5) बच्चों में कल्पना और सोचने की क्षमता का नुकसान।

विशेषज्ञ क्या कहते हैं?

1) किसी भी स्क्रीन पर चार घंटे से अधिक समय बिताने से बच्चों में मानसिक बीमारी हो सकती है। इसके लिए बच्चों को शारीरिक खेलों में सक्रिय होना आवश्यक है। ऑनलाइन काम करते समय कुछ अंतराल पर ब्रेक लेना जरूरी है।

2) मोबाइल और लैपटॉप बच्चों को आसानी से उपलब्ध हो गए हैं क्योंकि कोरोना काल में शिक्षा ऑनलाइन हो गई है। लेकिन अपने बच्चों को पढ़ाई के अलावा फुरसत के लिए ऐसी स्क्रीन का इस्तेमाल न करने दें।

3) माता-पिता को अपने बच्चों के साथ अधिक से अधिक समय बिताना चाहिए। यह बच्चों को एक प्लेमेट और माता-पिता से बात करने के लिए देगा। नतीजतन, बच्चे डिजिटल स्क्रीन में शामिल नहीं होंगे।

4) अपने बच्चों को मानसिक तनाव से बचाने के लिए हमेशा खुश रखें। बच्चों को कम उम्र से ही जरूरी चीजों का महत्व समझाएं।

5) बच्चों को अनुशासन के लिए बाध्य न करें। बच्चों को उनकी कला का उदाहरण देकर समझाएं।

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Sabkuchgyan इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें. इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें – धन्यवाद

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.