दिल्ली सरकार नए साल में झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों को देगी नए साल का शानदार तोहफा

231

दिल्ली सरकार नए साल में झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों को एक शानदार तोहफा देने जा रही है। केजरीवाल सरकार मुख्मंत्री आवास योजना के तहत यह बड़ा काम करने जा रही है। झुग्गीवासियों के लिए 9 हजार 315 फ्लैटों का वितरण जल्द शुरू होगा। शहरी आश्रय बोर्ड ने दिल्ली के विभिन्न क्षेत्रों में वितरण के लिए 9315 फ्लैट तैयार किए हैं।

अरविंद केजरीवाल ने अधिकारियों को फ्लैटों के वितरण के लिए सभी संभव तैयारियों को पूरा करने का निर्देश दिया है। ताकि लोगों को जल्‍द से जल्‍द जलेगी फ्लैट दिए जा सकें। ये सभी फ्लैट बहु-मंजिला हैं। जिस एजेंसी को फ्लैटों के निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई है, उसे 24 महीने के भीतर यानी 31 मार्च 2023 तक निर्माण कार्य पूरा करना होगा। फ्लैटों की कुल लागत 3312 करोड़ रुपये है और प्रत्येक फ्लैट की कीमत लगभग 8 लाख रुपये होगी।

loading...

इन जगहों पर फ्लैट

अधिकारीयों ने मुख्यमंत्री केजरीवाल को तैयार फ्लैटों का विवरण बताया है कि ए -1 चरण में तीन स्थानों पर फ्लैटों का निर्माण किया जाएगा। जिसमें भलस्वा जहांगीरपुरी में 7400 फ्लैट बनाए गए हैं। जिसे 7JJ स्लम में रहने वाले परिवार को सौंप दिया जाएगा। इसी तरह सुल्तानपुरी में 4 मलिन बस्तियों के लिए 1060 फ्लैट और बवाना में 3 झुग्गियों में रहने वाले परिवारों के लिए 855 फ्लैट दिए जाएंगे।

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत, झुग्गी-झोपड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को पुनर्वास योजना के तहत नए घर उपलब्ध कराए जाएंगे। दिल्ली सरकार इन लोगों को घर मुहैया कराएगी। झुग्गी वालों के लिए तीन चरणों में 89,400 फ्लैट बनाए जाएंगे। परिवारों को पहली बार दो चरणों में तैयार किए गए 59,400 फ्लैटों में स्थानांतरित किया जाएगा। इन लोगों के शिफ्ट होने के बाद जो जमीन खाली होगी, उसमें तीसरे चरण के तहत 30,000 फ्लैट बनाए जाएंगे। तीन चरण की योजना 2022 से 2025 तक पूरी होगी।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.