8 ऐसी आदतें जो आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती हैं

Source
71

बुरी आदतों को छोड़ना हम सब के लिए मुश्किल हो सकता है, और भी मुश्किल जब हम यह सोचने लगते है कि यह आदतें हमारे लिए अच्छी हैं, लेकिन यह अंदर ही अंदर हमारे शरीर को नुकसान पहुँचा रही होती है।
कुछ ऐसी आपकी रोज़ की आदतें जो आपको नुकसान पहुँचा सकती है जैसे :

अपने आपको छींकने से रोकना

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

जब आप अपने मुंह को बंद और अपनी नाक को दबाकर अपनी छींक को रोकते है तो, इसकी वजह से हमारा इंट्राक्रेनियल प्रेशर बढ़ जाता है और इस कारणवश दिमाग में खून का बहाव बाधित हो जाता है, हमारी खून की नसें और नर्वस टिश्यू पर अधिक दवाब महसूस होने लगता है, यह सब हमें बाहरी नुकसान पहुंचा सकता है जैसे सिरदर्द, नसें और सुनने की शक्ति का खराब होना। इसलिए कहते हैं कि छींक आर ही है तो आने दो।

परफ्यूम का उपयोग

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

परफ्यूम बनाने के लिए कृत्रिम पदार्थों का उपयोग किया जाता है क्योंकि यह शक्तिशाली सुगंधित द्रव बनाते हैं जो प्राकृतिक तेल से भी सस्ते होते हैं। यह पदार्थ चक्कर, मिचली और सुस्ती का कारण बन सकते हैं। यह पदार्थ आंखों, गले और त्वचा में जलन पैदा करते हैं। इससे अच्छा यही है कि हम इन परफ्यूम की जगह प्राकृतिक तेल का इस्तेमाल करें।

स्मार्टफोन का उपयोग

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

रात में अप्राकृतिक रोशनी हमारे शरीर में बनने वाले हॉर्मोन मेलोटोनिन की मात्रा को कम कर देती है जो की हमारी नींद और थकान को कंट्रोल करता है और लौ मेलोटोनिन की वजह से आप मोटापे, कैंसर, दिल की बीमारियों का शिकार बन सकते हैं।

खाने को प्लास्टिक कंटेनर में रखना

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

कई प्लास्टिक कंटेनर कृत्रिम पदार्थों से बने होते हैं जैसे पेथलेट, बिस्फेनॉल जो कंटेनर की लचक का ध्यान रखते है। अगर खाने को ज्यादा समय तक इन प्लास्टिक के डिब्बों में रखा जाए तो यह पदार्थ खाने के अंदर चले जाते हैं और आपके एंडोक्राइन ग्लांड्स को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
इसलिए अपने खाने को ग्लास, स्टेनलेस स्टील, सेरामिक मैटेरियल से बने कंटेनर में रखे

रात को दांतों की सफाई सीधा खाना खाने के बाद

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

कई लोग खाना खाने के तुरंत बाद ही ब्रश कर लेते हैं लेकिन डेन्टिस्ट्स कई समय से यही सलाह देते आ रहे कि हमें अपने दांतों की सफाई खाने के 30 मिनट के बाद करनी चाहिए, और हो सके तो एक घंटे बाद। हमारे खाने और पेय ज्यादातर जिनमें ज्यादा ही एैसिडिक होते है यह सब हमारे दांत के इनेमल और उसके नीचे की परत डेंटिन को नुकसान पहुँचा सकते है। आपके टूथब्रश करने से एसिड डेंटिन के और भी अंदर और पास चला जाता है और इसके कारण दांतों में झनझनाहट और इनेमल नष्ट हो जाना का खतरा बढ़ जाता है।

एंटीबैक्टीरियल साबुन का ज्यादा इस्तेमाल कर लेना

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

हमारी त्वचा पर कई सारे उपयोगी बैक्टीरिया होते हैं और अगर हम ज्यादा एंटीबैक्टीरियल साबुन का इस्तेमाल करते हैं तो हम अपने हाथों से सारे फायदेमंद बैक्टीरिया को खत्म कर रहे होते हैं और खतरनाक बैक्टीरिया को न्योता दे रहे हैं। इसलिए डरमोटोलॉजिस्ट्स भी यही सलाह देते हैं कि एंटीबैक्टीरियल बैक्टीरिया को साबुन को सिर्फ घाव, खरोच, छीलने के लिए ही करे।

टाइट जीन्स पहनना

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

टाइट जीन्स पहना आज के दौर में बहुत ही फैशनेबल है लेकिन टाइट जीन्स लगातार हमारी स्किन को और नसों को दबाता रहता है और यह हमें लगातार बेचैनी महसूस कराती रहती है और ब्लड प्रेशर जो हमारी टांगों में आ रहा होता है वो भी कम हो जाता है और इससे़ खुजली, सिरहन जैसी परेशानी हो जाती है और आपके पैर सुन्न भी पड़ सकते हैं।

ताजा निचोड़ा हुआ जूस पीना

routine habits, harmful health,juice, unhealthy, toothbrush, container, mobile phone, jeans, perfume
Source

यह ज्यादा लोग नहीं जानतें है कि ताजा निचोड़ा हुआ जूस हमारे लिए सही है लेकिन सिर्फ कम मात्रा में। कोई विशेष रोग में जूस भी आपको नुकसान पहुँचा सकते हैं। जैसे अंगूर का जूस, मोटे और डायबिटीज रोगियों के लिए हानिकारक है। जूस में एक तेज एलर्जी पैदा करने वाले तत्व होते हैं। इसलिए अगर आप बच्चो को जूस दे रहे हैं तो सोच समझकर दे और कम मात्रा में दे। और देने से पहले डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

-Nandini Naamdev

loading...

loading...