खुलासा : राज्य के इस शहर में गर्भनिरोधक गोलियों के बजाय की गोलियों के बजाय कंडोम का उपयोग हुआ दोगुना  

544

एक सर्वेक्षण से पता चला है कि मुंबई में जन्म नियंत्रण की गोलियों के बजाय कंडोम का उपयोग दोगुना हो गया है। देश के कुल 22 राज्यों में एक सर्वेक्षण किया गया था। इस सर्वेक्षण के सबसे महत्वपूर्ण निष्कर्षों में से एक यह है कि भारत में विवाहित जोड़ों द्वारा गर्भनिरोधक गोलियों का उपयोग कम हुआ है।

सर्वेक्षण देश के 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में शहरी क्षेत्रों में किया गया था। मुंबई में, परिवार नियोजन के लिए गर्भनिरोधक गोलियों के बजाय कंडोम का उपयोग दोगुना हो गया है। जन्म नियंत्रण की गोलियों के साथ नसबंदी कराने वाली महिलाओं की संख्या में भी कमी आई है। इस मुद्दे को राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण में उठाया गया था।

आइए जानते हैं, मुंबई के आंकड़े क्या कहते हैं?

मुंबई में 10 विवाहित जोड़ों में से 7 पहले से ही परिवार नियोजन में शामिल हैं। 2015-16 में, परिवार की योजना बनाने वाले जोड़ों की संख्या 59.6 प्रतिशत थी। इसलिए, 2019-20 में, यही आंकड़ा बढ़कर 74.3 फीसदी हो गया है। इस बीच, कंडोम का उपयोग 11.1 प्रतिशत से बढ़कर 18.1 प्रतिशत हो गया। गर्भनिरोधक गोलियां भी 3.1 फीसदी से घटकर 1.9 फीसदी रही हैं। महिला नसबंदी की दर 47 फीसदी से घटकर 36.1 फीसदी हो गई है।

मुंबई उपनगरों के आंकड़े क्या कहते हैं?

मुंबई उपनगरों में पुरुषों के बीच कंडोम का उपयोग दोगुना हो गया है। 2015-16 में मुंबई उपनगरों में कंडोम का प्रसार 8.9 प्रतिशत था, अब यह 2019-20 में बढ़कर 18 प्रतिशत हो गया है। मुंबई उपनगरों में, महिला नसबंदी दर 43 प्रतिशत से घटकर 37.5 प्रतिशत हो गई है। गर्भनिरोधक गोलियां 5.3 फीसदी से घटकर 0.9 फीसदी रह गई हैं।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.