निवेशकों लग सकता है धक्का ? शेयर बाजार में 15 से 20 फीसदी तक की गिरावट की आशंका

287

ईंधन की बढ़ती कीमतों और अन्य कारकों ने वैश्विक मुद्रास्फीति को बढ़ा दिया है, जिससे शेयर बाजार में सुधार हो सकता है।

विशेषज्ञों का अनुमान है कि बाजार में 15 से 20 फीसदी तक की गिरावट आएगी। बाजार की दिशा आने वाले हफ्तों में कुछ कंपनियों के नतीजों और वैश्विक स्थिति पर निर्भर होने की संभावना है।

पिछले सप्ताह घोषित ऋण नीति ने रिजर्व बैंक को स्पष्ट संदेश दिया है कि वह घरेलू स्थिति को अधिक प्राथमिकता दे रहा है। यह नीति भारत में मुद्रास्फीति पर अंकुश लगाने का एकमात्र तरीका नहीं होगी। इसलिए महंगाई की दर में कुछ कमी आ सकती है। इसलिए, देश के औद्योगिक विकास में योगदान करना संभव है। हालांकि आरबीआई अर्थव्यवस्था की विकास दर को लेकर सतर्क नजर आ रहा है। विदेशी वित्तीय संस्थानों द्वारा बाजार में बिकवाली जारी है। पिछले हफ्ते उन्होंने 5,641.81 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।

निवेशकों ने 3.81 लाख करोड़ रुपये डूबे

बाजार की अस्थिरता के कारण पिछले सप्ताह सूचकांक गिर गया। सेंसेक्स 0.83 फीसदी गिरा। नतीजतन, बाजार पूंजीकरण 3,81,392.39 करोड़ रुपये गिरकर 2,63,89886.35 करोड़ रुपये हो गया। बाजार में गिरावट का असर निवेशकों पर पड़ा है। हालांकि इन नुकसानों को प्रलेखित किया गया है, दो सप्ताह की बढ़ोतरी के बाद गिरावट से निवेशकों में निराशा हो सकती है।

टीसीएस को सबसे ज्यादा झटका

बाजार के शीर्ष दस प्रतिष्ठानों में टीसीएस में सबसे ज्यादा गिरावट देखी गई। इसके बाद एचडीएफसी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, लार्सन एंड टुब्रो का नंबर आता है। इसी समय, रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा स्टील और मारुति ने अपने पूंजीगत लाभ में वृद्धि देखी।

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.