बुद्ध पूर्णिमा 2024: देश-विदेश में मनाई जा रही है बुद्ध पूर्णिमा, जानें विशेष महत्व

0 29
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

 

वैशाख मास की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहा जाता है। शास्त्रों में इस दिन को बहुत शुभ माना गया है। इस दिन गंगा स्नान, दान, ध्यान आदि किये जाते हैं। बहुत से लोग व्रत रखते हैं. बौद्ध धर्मावलंबी इस त्यौहार को बहुत धूमधाम से मनाते हैं। हिंदू इस दिन भगवान विष्णु की भी पूजा करते हैं क्योंकि गौतम बुद्ध को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। आइए आपको बताते हैं इस दिन का महत्व और भगवान बुद्ध से जुड़ी खास बातें।

हम बुद्ध पूर्णिमा क्यों मनाते हैं?

बुद्ध पूर्णिमा के दिन न केवल भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था, बल्कि यह भी कहा जाता है कि इसी दिन उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। इतना ही नहीं उनका महापरिनिर्वाण वैशाख पूर्णिमा के दिन ही कुशीनगर में हुआ था। बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर कुशीनगर में लगभग एक महीने तक मेला लगता है। इस दिन लोग भगवान बुद्ध की पूजा करते हैं, दीपक जलाते हैं और उनकी शिक्षाओं को सुनते हैं और उन्हें जीवन में लागू करना सीखते हैं।

इन देशों में भी यह त्यौहार मनाया जाता है

बुद्ध पूर्णिमा बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों के लिए एक बड़ा त्योहार है। यह त्यौहार सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों जैसे चीन, नेपाल, सिंगापुर, वियतनाम, थाईलैंड, जापान, कंबोडिया, मलेशिया, श्रीलंका, म्यांमार, इंडोनेशिया, पाकिस्तान में भी बुद्ध जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस दिन बौद्ध अनुयायी अपने घरों में दीपक जलाते हैं और फूलों से घर को सजाते हैं। इस दिन बौद्ध धर्मग्रंथों का पाठ किया जाता है। इस दिन गौतम बुद्ध के प्रसिद्ध तीर्थस्थलों जैसे बोधगया, कुशीनगर, लुंबिनी और सारनाथ में विशेष पूजा की जाती है।

भगवान बुद्ध की 4 पत्नियों से सबक

भगवान गौतम बुद्ध कहते थे कि प्रत्येक पुरुष की 4 पत्नियाँ होती हैं और प्रत्येक महिला के 4 पति होते हैं। इन चारों में से केवल चौथी पत्नी या पति ही अंतिम समय में उनके साथ जाते हैं, बाकी सभी यहीं चले जाते हैं। भगवान बुद्ध ने यहाँ किन चार पत्नियों या पतियों का उल्लेख किया है? इस कहानी का सार बताते हुए भगवान गौतम बुद्ध कहते हैं कि हर पुरुष की 4 पत्नियाँ होती हैं और हर महिला के 4 पति होते हैं। चौथा ही साथ जाता है।

– पहली पत्नी या पति आपका अपना शरीर है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप उससे कितना प्यार करते हैं, आप उसकी कितनी परवाह करते हैं, वह आपको मरने के बाद छोड़ देता है।

– आपकी दूसरी पत्नी या पति ही आपका भाग्य है। जो किस्मत आप अपने साथ लाते हैं वह कभी आपके साथ नहीं जाती। यहीं चूक जाती है.

– तीसरी पत्नी या पति आपका रिश्तेदार है। जब तक आप जीवित हैं माता-पिता, भाई-बहन या अन्य रिश्तेदार आपके साथ हैं। ये भी आपको मौत के मुंह में छोड़ देता है. इसके बाद आपका उनसे कोई रिश्ता नहीं रहेगा.

-चौथी पत्नी या पति आपका कर्म है। जीवन में आप जो भी कर्म करते हैं, ये कर्म आपके साथ जरूर जाते हैं। इन्हीं कर्मों के आधार पर आपका अगला जन्म निर्धारित होता है।

 

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.