स्वामी विवेकानंद की जीवनी- Biography of Swami Vivekananda

0 697

Biography of Swami Vivekananda in Hindi स्वामी विवेकानद (Swami Vivekananda) भारतीय सन्यासी थे। उनका जन्म अमीर बंगाली परिवार में 12 जनवरी 1863 (Swami Vivekananda Birthday) में हुआ था।  वह विश्व में हिन्दू धर्म की जागरूकता फ़ैलाने और वेदांत और योग की फिलोसोफी का प्रचार करने के लिए मशहूर है।
स्वामी विवेकानंद का असली नाम नरेन्द्रनाथ दत्ता था। उस समय भारत अंग्रेज़ो के राज में था और कलकत्ता भारत की राजधानी थी।

swami vivekananda

उनके पिता विश्वनाथ दत्ता कलकत्ता हाई कोर्ट के अटॉर्नी थे और उनकी माँ घर संभालती थी।

विवेकानंद पढ़ाई में ठीकठाक थे लेकिन उनकी किताबें पढ़ने में बहुत रूचि थी। उनका वेद, उपनिषद्, भगवद गीता, रामायण, महाभारत और पुराण में बहुत दिलचस्पी थी।

नरेन्द्रनाथ ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर विद्यालय से पढ़ाई की थी और बाद में उन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज के एंट्रेंस परीक्षा को पास किया। उन्होंने स्कॉटिश चर्च कॉलेज से पश्चिमी इतिहास और पश्चिमी फिलोसोफी की पढ़ाई की।

swami vivekananda

विवेकानंद हमेशा लोगों से उन्हें भगवान् और धर्म के बारे में पूछते रहते थे लेकिन किसी भी उत्तर से उन्हें संतुष्टि नहीं मिली। उन्हें इसका जवाब रामकृष्ण से मिला। रामकृष्ण से उनकी पहली मुलाकात नवंबर 1881 में हुई और वह उनकी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा मोड़ था। उन्होंने रामकृष्ण को अपना गुरु बना लिया।

swami vivekananda

रामकृष्ण की मृत्यु 16 अगस्त 1886 में हुई थी। रामकृष्ण ने विवेकानद को सिखाया की इंसानो की मदद करना भगवान की भक्ति के सामान है।

विवेकानंद 1888 से भारत का भ्रमण करने लगे। वह पूरे भारत में करीब 5 वर्ष तक घूमे और अलग अलग प्रकार के लोगों के साथ रहे। विवेकानंद जुलाई के महीने में शिकागो गए। उस समय वह पर विश्व धर्म की पार्लियामेंट का आयोजन हुआ था। लेकिन उन्हें पहली बार वह बोलने का मौका नहीं मिला लेकिन हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जॉन हेनरी राइट की मदद से उन्हें वह बोलने का मौका मिला।

11 सितम्बर 1893 में विश्व धर्म पार्लियामेंट में उन्होंने हिन्दू धर्म पर भाषण दिया। उन्होंने अपने भाषण की शुरुवात अमेरिका में भाइयो बहनो से की। अपने भाषण की वजह से वह मौजूद 7000 लोगों ने खड़े होकर उन्हें सम्मान दिया।
उन्होंने कई किताबे जैसे कर्मा योग (1896), राज योग (1896). वेदांत फिलोसोफी (1896). लेक्टर्स फ्रॉम कोलोंबो तो अल्मोड़ा (1897). भक्ति योग, द ईस्ट एंड द वेस्ट लिखी।

4 जुलाई 1902 में स्वामी विवेकानंद का 39 साल की उम्र में बेलूर मैथ में निधन हो गया और उनका जन्मदिन भारत में राष्ट्रीय युथ डे के तौर पर मनाया जाता है।

4 आसान से सवालों के जवाब देकर जीतें 400 रु– यहां क्लिक करें

जिओ Sale :- 
Jio 2 Smartphone  मोबाइल को 499 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JIO Mini SmartWatch को 199 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JioFi M2 को 349 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

Jio Fitness Tracker को 99 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

Umidigi दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन 4GB रैम | 18+8 मेगापिक्सल कैमरा | 2 दिन तक चले बैटरी


सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

👉 Important Link 👈
👉 Join Our Telegram Channel 👈
👉 Sarkari Yojana 👈

Leave a Reply