शिवराज सरकार की बड़ी घोषणा: पत्थरबाजी करने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के लिए सख्त कानून बनाए जाएंगे

265

भोपाल: मध्य प्रदेश कैबिनेट ने फ्रीडम ऑफ रिलिजन (धार्मिक स्वतंत्रता) अध्यादेश को मंजूरी दे दी थी। अब सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एक और बड़ी घोषणा की है। उन्होंने कहा, “सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा।” न केवल ऐसा करने वालों को कड़ी सजा दी जाएगी, बल्कि उनसे हर्जाने की राशि भी वसूली जाएगी। शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को कहा, “मैंने ऐसे दंगों के खिलाफ सख्त कानून बनाने का निर्देश दिया है।” उन्होंने यह भी कहा कि काम किया गया है। दंगाइयों से निपटने के लिए जल्द ही कानून बनाया जाएगा।

यहां यह उल्लेख किया जा सकता है कि अतीत में, राम भक्त जो शांति से उज्जैन और इंदौर में श्रीराम मंदिरों के निर्माण के लिए धन इकट्ठा कर रहे थे, पत्थर मार दिए गए थे। इंदौर और उज्जैन के प्रशासन ने तब तुरंत कार्रवाई की और पत्थर फेंकने वालों के घर एक मजबूत संदेश भेजा। पहली घटना 25 दिसंबर को उज्जैन के बेगमबाग इलाके में हुई थी, जहां हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया गया था। पत्थरबाजी की घटना में नौ लोग घायल हो गए और पूरे इलाके में तनाव फैल गया। प्रशासन के अधिकारी और पुलिस फिर घटनास्थल पर पहुंचे और उन घरों की पहचान की जहां पत्थरबाजी हुई थी।

loading...

जांच में पता चला कि मकान अवैध तरीके से बनाए गए थे। प्रशासन ने पहले इन मकान मालिकों को नोटिस भी जारी किया था। 26 दिसंबर को प्रशासनिक अमला पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचा और दंगाइयों ने चार घंटे से अधिक समय तक ऐसा किया। शहर के काज़ी को भी धमकी दी गई थी कि अगर कोई दंगा हुआ तो हम ज़िम्मेदार नहीं होंगे, लेकिन अधिकारी नहीं लौटे और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए घर को ढहा दिया गया। दूसरी घटना 29 दिसंबर को इंदौर जिले के देपालपुर तालुका के चंदनखेड़ी गाँव में हुई, जहाँ मंदिर निर्माण के लिए एक रैली के दौरान पत्थर फेंके गए।

पत्थरबाजी में 20 से अधिक लोग घायल हो गए। दंगाइयों ने धारदार हथियारों से भी हमला किया और गोलियां चलाईं। भारी पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे अधिकारियों ने मामला दर्ज किया और लगभग 25 उपद्रवी गिरफ्तार किए। इतना ही नहीं, 24 घंटे के भीतर प्रशासन ने स्वीकृत नक्शे का उल्लंघन करते हुए बनाए गए मकानों को ध्वस्त कर दिया। यही नहीं, चंदनखेड़ी मुख्य मार्ग पर कुछ घरों के अवैध हिस्से भी ध्वस्त किए गए। उज्जैन और इंदौर के कलेक्टरों ने कहा कि जो लोग निर्माणाधीन हैं और जो लोग पर्यावरण को विकृत करने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

यहां यह उल्लेख किया जा सकता है कि पहले शिवराज मंत्रिमंडल ने 26 दिसंबर को फ्रीडम ऑफ रिलीजन (धार्मिक स्वतंत्रता) विधेयक 2020 को मंजूरी दी थी। कानून ताबूत में एक कील जबरन धर्मान्तरित रहेगा। शिवराज सरकार ने कहा कि धर्म की स्वतंत्रता अधिनियम -2020 को एक अध्यादेश के जरिए लागू किया जाएगा। इससे पहले उत्तर प्रदेश में, 28 नवंबर, 2020 को उत्तर प्रदेश शराब निषेध अध्यादेश 2020 लागू किया गया था। यही नहीं, कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने भी लव जिहाद के खिलाफ सख्त कानून की घोषणा की है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.