मर्दों के लिए बहुत फायदेमंद है यह चमत्कारिक पौधा, कहीं भी मिल जाये तो सीधा घर लेकर आयें

1,734

आयुर्वेद : आज हम एक बहुत ही चमत्कारी पौधे के बारे में बताएंगे । यह पौधा बहुत ही फायदेमंद होता है । इस पौधे का नाम है भांग । भांग का पौधा औषधीय गुणों से भरा पड़ा है। भांग के मादा पौधों में स्थित मंजरियों से निकले राल से गांजा प्राप्त किया जाता है।

भांग के पौधों में केनाबिनोल नामक रसायन पाया जाता है। भांग कफशामक एवं पित्तकोपक होता है। भांग, चरस या गांजे की लत शरीर को नुकसान पहुंचाती है । लेकिन इसकी सही डोज कई बीमारियों से बचा सकती है । इसकी पुष्टि विज्ञान भी कर चुका है । आइए जानते हैं इसके चमत्कारी फायदों के बारे में

सिर दर्द में आराम

यदि किसी को निरंतर सिर दर्द रहता है तो भांग की पत्तियों के रस का अर्क बनाकर कान में 2-3 बूंद डाल दें, सिरदर्द धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा और जड़ से खत्म होगा ।

भूख बढ़ाए

loading...

यदि किसी की भूख बढ़ानी हो तो सही मात्रा में भांग का सेवन करने से भूख बढ़ सकती है। इसके लिए काली मिर्च के साथ भांग का चूर्ण चिकित्सकीय परामर्श में सुबह और शाम रोगी को चटाना चाहिए, कुछ ही दिनों में भूख बढ़ जाती है ।

कैंसर में लाभदायद

3. भांग, कैंसर से लड़ने में सक्षम माना जाता है। शोध बताते हैं कि यह ट्यूमर के विकास के लिए जरूरी रक्त कोशिकाओं को रोक देते हैं। कैनाबिनॉएड्स से कोलन कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर और लिवर कैंसर का सफल इलाज होता है।

दमा की समस्या

125Mg भांग, 2Mg काली मिर्च और 2ग्राम मिश्री को मिलाकर खाने से दमा रोग की समस्या में आराम मिलता है। इसके अलावा भांग को जला कर उसके धुंए को सूंघने से दमा की समस्या में लाभ मिलता है।

आंखों की रोशनी भी तेज

कम मात्रा में भांग पीने से ना सिर्फ मूड अच्छा होता है बल्कि इससे आंखों की रोशनी भी तेज होती है। साथ ही कम सुनाई देने की समस्या भी दूर होती है। दरअसल, इसके सेवन से इंद्रियों में तीव्रता आ जाती है, जिससे आंखों व कानों की प्रॉब्लम्स दूर हो जाती है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.