बथुए की सब्जी में हैं आपका पुराने से पुराना कब्ज दूर करने की ताकत

1,440

सर्दियों में बाजार में बथुआ बड़ी आसानी से मिल जाता है। लेकिन इसके गुणों से हम अनजान हैं। क्योंकि बथुआ इतने फायदे करता है कि हम सोच भी नहीं सकते। यह पेट संबंधित हर बीमारी में रामबाण उपाय है। इसलिए आयुर्वेद में बथुए का सेवन रोजाना बताया गया है।

यह है सेवन की विधि

bathua-vegetable-has-the-power-to-relieve-chronic-constipation

बथुए के सेवन की विधियां भी अलग अलग हैं। इसे सब्जी बनाकर भुजिया बनाकर और रायता बनाकर खाया जाता है। लेकिन ध्यान यह रखना है कि जब भी सब्जी या भुजिया बनाएं तो बथुए में सेंधा नमक ही उपयोग में लें। दूसरी बात यह सब्जी या भुजिया हमेशा देसी घी में ही छौंकें। दूसरा तरीका बथुए के पत्तों का जूस बनाकर या फिर बथुए के पत्तों केा पानी में उबालकर उस पानी का सेवन कर सकते हैं।

बथुए के औषधीय गुण

bathua-vegetable-has-the-power-to-relieve-chronic-constipation

बथुआ पुराने से पुराना कब्ज दूर करता है। बस किसी भी रूप में इसका सेवन रोजाना करना है।

पथरी हो तो एक गिलास कच्चे बथुए के रस में शक्कर मिलाकर रोजाना पिएं। पथरी टूटकर बाहर खुद ही बाहर आ जाएगी।

Are you troubled with problems related to hair Please note these 10 tips.

सिर के बालों में जुएं या लीखें हो गई हों तो बथुए को पानी में उबालकर सिर धो लें। सब निकल जाएंगी।

Eating Apple for Stomach and Eyes Health Benefits

यदि किसी के आंखों में सूजन आती हो या फिर लाली हो तो उसे प्रतिदिन बथुए की सब्जी खाने को दें। यह बीमारियां सही हो जाती है।

पेशाब सबंधित रोगों में फायदे

bathua-vegetable-has-the-power-to-relieve-chronic-constipation

तीन गिलास पानी में आधा किलो बथुआ उबाल लें। अब पानी को छान लें और बथुए को भी निकाल कर निचोड लें। इसे फिर से छाने हुए पानी में मिला दें। अब इसमें नींबू जीरा सेंधा नमक कालि मिर्च आदि मिलाकर पी जाएं। यह प्रयोग दिन में तीन बार करें। इससे पेशाब में जलन पेशाब करने के बाद होने वाला टीज या दर्द ठीक हो जाता है। पेट साफ होता है और हल्का हो जाता है।

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.