अपने बच्चे के सामने इन गलतियों से बचें

288

बच्चे अनुभव और गतिविधियों के माध्यम से सीखते हैं। बच्चों के मस्तिष्क का विकास इस बात पर निर्भर करता है कि वे किस तरह के अनुभवों से गुजरते हैं। अच्छे अनुभव अच्छे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में योगदान करते हैं। बुरे अनुभव अस्वस्थ विकास की ओर ले जाते हैं। कवि पीपी ने कहा, “आओ और अच्छे समय को देखो, और तुम इसे अच्छा बनाओगे।”

परिवार में अच्छा माहौल होना बहुत जरूरी है। बड़े बड़े परिवारों में बच्चों के लिए कई रोल मॉडल होंगे। लेकिन आज के छोटे परिवारों में अक्सर माता-पिता ही बच्चों के रोल मॉडल (Role Model) होते हैं। जब फोकस सिर्फ किताबें पढ़ने और परीक्षा की तैयारी पर होता है। बच्चों का अनुभव घर तक ही सीमित रहता है। इससे पिता और माता की जिम्मेदारी बढ़ जाती है; एक अच्छा पारिवारिक माहौल और भी महत्वपूर्ण है।

यहाँ कुछ चीजें हैं जिनसे बच्चों के सामने बचना चाहिए। यह कहना नहीं है कि सेना को सूट का पालन करना चाहिए, बल्कि बच्चों के साथ थोड़ा और ध्यान रखना चाहिए।

1. हमेशा दोष मत दो, बुरा मत कहो

सिर्फ बच्चों में दोष देखना और कहना ठीक नहीं है। गलतियों को इंगित करने की आवश्यकता है। लेकिन इसे इस तरह से नहीं करना चाहिए जिससे बच्चों में आत्मविश्वास की कमी और अवमानना ​​हो। माता-पिता को अच्छे को स्वीकार करने और प्रोत्साहित करने में सक्षम होना चाहिए। मलयालम में ‘अच्छा’ कहने के लिए बहुत कम शब्द हैं। हमें अपनी भाषा में अच्छे को पहचानने के लिए नए शब्दों की आवश्यकता है। बच्चों को प्यार से नुकसान नहीं होगा। बस इतना है कि बच्चों को यह जानने की जरूरत है कि प्यार की भी सीमाएँ होती हैं। जितना हो सके बच्चों के सामने अभद्र भाषा के प्रयोग और ‘बुरे’ शब्द बोलने से बचें।

बच्चों की भाषा, विशेष रूप से छोटे बच्चों की भाषा, पारिवारिक वातावरण से आकार लेती है। बुरे शब्द बच्चों द्वारा सुने जाते हैं और बड़ों द्वारा सुने जाते हैं। बच्चों के पास सभ्य, सुसंस्कृत भाषा होनी चाहिए। सभ्य भाषा का अर्थ ‘मुद्रित भाषा’ नहीं है। बच्चों को यह देखने की जरूरत है कि आपसी सम्मान के साथ मतभेद कैसे व्यक्त किए जा सकते हैं और वे आम सहमति तक कैसे पहुंच सकते हैं।

एक माता-पिता द्वारा दूसरे की इच्छाओं और विचारों की परवाह किए बिना तानाशाही राय और निर्णय थोपना बच्चों को गलत संदेश भेजता है। बच्चों को परिवार के माहौल से लोकतंत्र का पाठ सीखना शुरू करने की जरूरत है।

2. महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार न करें

loading...

बच्चों के सामने महिलाओं के बारे में बुरी तरह और यौन रूप से स्पष्ट रूप से बात करने से बचना महत्वपूर्ण है। ‘लड़का’ और ‘लड़की’ के बीच पूर्वाग्रह से बचें। बच्चों को जेंडर इक्वलिटी का पाठ घर से ही सीखना शुरू कर देना चाहिए।

3. जैसा कहा जाए वैसा ही करें

बच्चों को कुछ बताना और उसके खिलाफ काम करना गलत संदेश जाता है। बच्चों को यह जानने की जरूरत है कि वे जो कहते हैं उसे कार्रवाई में देखा जाना चाहिए। जब बच्चों को झूठ नहीं बोलना सिखाया जाता है बल्कि जानबूझकर बच्चों के सामने झूठ बोलना सिखाया जाता है, तो बच्चे सीखते हैं कि जानबूझकर झूठ बोलना गलत नहीं है।

4. बुजुर्गों के साथ बुरा व्यवहार न करें

बड़े लोगों (घर और बाहर) से अभद्र भाषा न बोलें और बुरा व्यवहार न करें। मतभेद होने पर भी बच्चे के सामने न कहें। बच्चों को वृद्ध लोगों का सम्मान करने और उन्हें वह ध्यान देने में सक्षम होना चाहिए जिसके वे हकदार हैं। बच्चों को यह जानने की जरूरत है कि न केवल घर पर बल्कि सार्वजनिक स्थानों पर भी बड़ों के साथ शिष्टाचार और प्यार से पेश आना महत्वपूर्ण है।

5. विकलांग लोगों का उपहास न करें

बच्चों के सामने कभी भी शारीरिक या मानसिक विकलांग लोगों के साथ दुर्व्यवहार या उपहास न करें। अंधे और बहरे जैसी अभिव्यक्तियों से भी बचना चाहिए।

बच्चों को यह सिखाने की जरूरत है कि किसी समाज की संस्कृति का पैमाना यह है कि बुजुर्गों, विकलांगों और कमजोरों के साथ कैसा व्यवहार किया जाए। ऐसी अक्षमताओं को इंगित करने के लिए कम उम्र में ही सही शब्दों को सिखाएं।

6. जानवरों या पक्षियों के प्रति कोई क्रूरता नहीं

बच्चों के सामने पक्षियों, जानवरों और अन्य प्राणियों के प्रति क्रूरता से बचें। संसार केवल मनुष्य का ही नहीं, अन्य जीवों का भी है। बचपन से ही यह समझ लेना चाहिए कि इस दुनिया में इंसानों सहित सभी जीवों का समान अधिकार है। ऐसे विचारों वाली कहानियाँ सुनाने से बच्चे प्रभावित होंगे

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.