दर्शनीय स्थल- अगुआड़ा फोर्ट

0 20

अगुआड़ा फोर्ट महाराष्ट्र के मुंबई शहर से लगभग 400 किलोमीटर दक्षिण में गोवा राज्य में मांडवी नदी के उत्तरी किनारे पर स्थित है। अगुआड़ा पुर्तग़ाली भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ है- ‘पानी का स्थल’। इसका नामकरण पुर्तग़ालियों ने एक मीठे पानी के झरने के नाम पर किया था। इस दुर्ग को आठ वर्षों में निर्मित किया गया था। इतिहास 1612 ई. में इसके पूर्ण होने पर पुर्तग़ालियों ने इसका नाम ‘फोर्ट सांता कैथेरिना’ रखा।

अगुआड़ा में पुर्तग़ालियों द्वारा दुर्ग निर्माण का मुख्य उद्देश्य इसके माध्यम से गोवा की अपनी बस्ती की सुरक्षा करना था। फोर्ट समुद्र की ओर ऊँचे परकोटों और दो सुदृढ़ बुर्जों द्वारा सुरक्षित है। इस दुर्ग पर मराठों ने भी आक्रमण किया था। परंतु अंग्रेज़ों ने उसे असफल कर दिया। मराठों के साथ 1741 ई. की संधि के बाद यह दुर्ग पुर्तग़ालियों के अधिकार में आ गया। लक्ष्य मांडवी नदी के मुहाने पर बसा अगुआड़ा क़िला 1612 ईस्वी में तौयार हुआ था। इसे पुर्तग़ालियों ने बनवाया था। हर क़िले की तरहा इस क़िले का निर्माण भी दुश्मनों से सुरक्षा के लिए किया गया। लेकिन एक मकसद और था- यूरोप से आने वाले जहाजों के लिय ताज़ा पानी मुहैया कराना। क़िले में पानी जमा रहे, इसके लिए यहाँ एक विशाल टंकी बनवाई गई। इसे संभालने के लिए 16 बड़े स्तंभों का प्रयोग किया गया। टंकी की भंडारण क्षमता कई लाख गैलन है। इसमें पानी एकत्र करने के लिए प्राकृतिक झरनों की मद्द ली जाती थी। मजे की बात है कि ये झरने क़िले के अन्दर ही थे। 17वीं और 18वीं शताब्दी में दूर-दराज से आने वाले जहाज़ यहाँ रुकते और ताजे पानी का स्टॉक लेकर आगे बढ़ जाते। यकीन नहीं होता कि सामान्य-सा दिखने वाला क़िला किसी जमाने में पानी का इतना बड़ा स्रोत रहा होगा। क़िले के प्रांगण में प्रवेश करते हैं तो टंकी सामने ही दिखाई देती है। इस पर खड-ए होकर चारों तरफ नज़र दौड़ाएँ तो लगेगा जैसे लंबी आयताकार दीवार ने आपको घेरा हुआ है। एक कोने पर सफ़ेद रंग का लाइट हाउस तो दूसरे किनारे पर मांडवी नदी है। ये दोनों क़िले की ख़ूबसूरती में भरपूर इजाफ़ा करते हैं। यहाँ निरभ्र शांति है, और सुकून चाहने वालों के लिए किसी सौगात से कम नहीं हैं यह जगह।

क़िले की बाहरी दीवार लगभग ढह चुकी है। अंदर की दीवारें मज़बूत हैं जो तीन तरफ़ से चौड़ी खाई से घिरी हैं। चौथा छोर नदी की तरफ खुलता है। क़िले की संरचना कुछ ऐसी है कि इसे दो भागों में बांट सकते हैं- एक ऊपरी और दूसरा निचला भाग। क़िले के उपरी हिस्से में पानी की टंकी, लाइट हाउस, बारूद रखने का कक्ष और बुर्ज हैं, जबकि निचला हिस्सा पुर्तग़ाली जहाजों की गोदी के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। ख़ास बात यह कि अगुआड़ा देश का एकमात्र क़िला है जिस पर कभी किसी का आधिपत्य नहीं हो सका। यही वजह है कि पुर्तग़ाली क़िलों में अगुआड़ा सबसे अहम है।

साभार: bhartdiscovery.org

Sab Kuch Gyan से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे…

loading...

loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.