एक कौवे की छोटी कहानी, और आपकी जिंदगी की सबसे बड़ी सीख

817

जिंदगी की सबसे बड़ी सीख एक बार की बात है एक कौवा अपनी जिंदगी से बहुत परेशान हो गया था बहुत हताश हो गया था उसे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं वह अपने आप को ले करके बहुत ही क्रोधित था और एक पेड़ की डाल पर जा कर के बैठा रो रहा था वह कह रहा था कि ये कैसा रंग भगवान ने मुझे बना दिया काला और वह बहुत ही रो रहा था तभी वहां से एक साधुहूं जा रहे थे साधु के चेहरे पर एक मोती का बूंद टपका कौवे का आंसू टपका उनके चेहरे पर उन्होंने ऊपर देखा कौवासाधु महाराज ने कौवे से कहा क्यों रो रहे हो क्या तकलीफ है तुम्हें कौए ने कहा क्या तकलीफ बोल रहे हो तकलीफ ही तकलीफ है यह क्या बना दिया मुझे काला काला कौवा लोगों के घरों पर बैठता हूं कांव-कांव करता हूं लोग मुझे मार-मार के भगा ते हैं ना कोई मुझे पालता है ना मुझे कुछ कोई कुछ खिलाता है

श्राद्ध में लोग मुझे पूछते हैं और झूठा खिलाते हैं यह भी कोई जिंदगी है तो साधु महाराज ने कौए से कहा बोल तू क्या बनना पसंद करेगा मैं अभी बनाता हूं कौए ने कहा कभी बनने का मौका मिलेगा मुझे तो हंस बनना पसंद करूंगा साधु महाराज ने कहा चल तेरे को हंस बनाया मैंने लेकिन पहले एक बार जाकर हंस से मिलकर आतो जा कौवा बहुत खुश हो गया और वहां हंस महाराज के पास पहुंचा कौए ने देखा हंस को पानी में तैर रहा था बहुत खुश हुआ उसने हंस से कहा क्या तेरा रूप है वाइट वाइट सफेद सफेद पानी में तैरता है ऐसा पता ही नहीं चलता कि तू तैर रहा है कि चल रहा है क्या तेरी जिंदगी होगी क्या तेरी लाइफ है हंस ने कहा कौन बोला रे कौन बोला कवि ने कहा क्या तू भी खुश नहीं है हंस बोला हां यह भी कोई जिंदगी है

loading...

मेरे को वाइट बना दिया पानी में तैरता हूं लोग फोटो खींचते हैं पता ही नहीं चलता कि मेरा फोटो खींचे रहे हैं या पानी का पानी का फोटो खींच रहे हैं अब कौवा और हंस दोनों वहां से चल दिए और साधु के पास पहुंचे साधु महाराज ने कहा अब क्या बनना पसंद करोगे उन दोनों ने कहा अगर मौका मिले तो तोता बनना पसंद करूंगा साधु महाराज बोले ठीक है एक बार जाकर के उस से मिलआ दोनों वहां से निकल दिए अब आ करके पूरा जंगल भ्रमण कर रहे हैं एक पेड़ पर तोता बैठा था तीन-चार तोते बैठे थे उस पेड़ का जिस पेड़ पर तोता बैठा था कौवा और हंस पांच से छे चक्कर लगाये लेकिन उन्हें दिखाई नहीं दिया तोता लास्ट में उन्हें दिखा तोता वहां पर बैठा है वह तोते के पास आये और वह दोनों कौवा और हंस उन दोनों ने तोते से कहा क्या जिंदगी है तुम्हारी लोग तेरे को पालते हैं खिलाते हैं

खजूर खिलाते हैं काजू खिलाते हैं क्या नहीं खिलाते तेरे को मिट्ठू मिट्ठू करके बुलाते हैं पालते हैं तुमको को अपनी भाषा सिखाते हैं तोता परेशान हो गया उसने कहा कौन बोला रे कौन बोला कौवा और हंस ने कहा क्या तू खुश नहीं है तोते ने कहा नहीं मैं खुश नहीं हूं कौवा और हंस ने कहा तुझे क्या परेशानी है तोते ने कहा मुझे हरा बना दिया है यह भी कोई रंग है पेड़ में मिल जाता हूं अब तीनों वहां से चल दिए आए साधु महाराज के पास अब साधु महाराज ने कहा क्या बनना चाहोगे अब तीनों ने कहा कभी मौका मिले तो मोर बनना पसंद करेंगे राष्ट्रीय पक्षी है इंटरनेशनल खूबसूरती के मामले में तो साधु महाराज ने कहा ठीक है एक बार जाकर उससे मिलआ फिर मैं तेरे को बनाता हूं तब तीनो वहां से चल दिए मोर के पास आए मोर से कहने लगे क्या तेरी जिंदगी है क्या मजे से तू रहता होगा अरे तेरे नाचने के लिए लोग घंटो इंतजार करते हैं

कैमरे लेकर मोर नाचेगा फोटो खींचगे घटा बरसेगी क्या तेरी जिंदगी है क्या तेरा लाइफस्टाइल है तू तो बहुत खुश रहता होगा मोर ने कहा कौन बोला कौन बोला मैं खुश रहता हूं इन तीनों ने कहा क्या तू भी खुश नहीं है मोर ने कहा नहीं तो इन तीनों ने कहा फिर कौन खुश फिर मोर ने कहा कौवा खुश है कौए ने कहा तू खुश क्यों नहीं है मोर ने कहा की आवाज सुन रहा है बोला हां सुन रहा हूं वह शिकारी की आवाज है अभी और तेजी आवाज होती जाएगी मेरी धड़कन तेज होती जाएगी कि अभी यह मुझे मार देगा कहां से कौन मार देगा और मुझे मार के लोग और मेरे पंख मेरे शरीर को कहां-कहां लोग बेचेंगे मेरी पंखों को लोग नोच नोच कर ले जाएंगे और उसे मार्केट में सेल करेंगे लोग उसे अपने घरों में लगाएंगे ये कोई जिंदगी है मेरे पास मेरी मौत कब आ जाए मुझे एक मिनट का पता नहीं है कि कब मेरी मौत मेरे पास आ जाए और

मोर ने कौवे से कहा ये बता कि तुझे कोई मारेगा मुझे किसी से डर उसे कोई पालेगा तुझे कोई कुछ खिलाएगा तुझे कोई डर नहीं मुझे कोई कुछ नहीं करेगा तो फिर कौन खुश है मैं हूं या तू तो कव्वे ने कहा मैं खुश हूं, दोस्तों इस कहानी के माध्यम से मैं आपको बताने की पूरी कोशिश कर रहा हूं कि इस दुनिया में कोई भी खुश नहीं है लोग अपनी कंपेयर दूसरों से करते हैं अपनी तुलना दूसरों से करते हैं कि हां वह बहुत खुश रहता होगा उसका लाइफ स्टाइल अच्छा है लेकिन वह अपनी जिंदगी में खुश नहीं है आपके नजरिए से वह बहुत खुश रहता है लेकिन वास्तव में वह खुश नहीं है पूरी दुनिया में जितने भी लोग हैं सब लोग परेशान हैं ईश्वर ने सबको यूनिक बनाया है एक नया बनाया है तुम किसी से मेल नहीं खाते हो तुम संसार के सबसे सुंदर सबसे अच्छे जीव हो तो अपनी तुलना दूसरों से क्यों करते हो

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.