21 जून सूर्य ग्रहण 2020: ग्रहण के समय रखें ये सावधानियां

436

Solar eclipse : ये साल का पहला सूर्य ग्रहण है जो सुबह 9:15 बजे से शुरू हो जायेगा और दोपहर के 03:04 बजे तक रहेगा। इस ग्रहण का मध्य 12:10 के आसपास रहेगा में जिसमें सूर्य एक वलय/फायर रिंग/चूड़ामणि के रूप में नजर आएगा। ग्रहण का सूतक काल कल रात 09:15PM से शुरू हो चुका है। हिन्दू धर्म में सूतक काल की विशेष मान्यता है, इस दौरान पूजा घर और मंदिरों के पट बंद रहते हैं। और सूर्य ग्रहण की समाप्ति के बाद पूजा घर और मदिर के कपाट खोले जाते हैं, और जगह जगह गंगाजल का छिडकाव किया जाता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन
1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

सूर्य ग्रहण के दौरान की रखें सावधानियां

• ग्रहण के वक्त प्रकृति में कई तरह की अशुद्ध और हानिकारक किरणों का प्रभाव रहता है। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।

• ग्रहण में अन्न, जल ग्रहण नहीं करना चाहिए।

loading...

• ग्रहणकाल में स्नान न करें। ग्रहण खत्म होने के बाद स्नान जरूर करना चाहिए।

ग्रहण को खुली आंखों से न देखें।

• ग्रहण के दौरान या पहले बने हुए भोजन को शुद्ध करने के लिए उसमें तुलसी के पत्ते डालें।

सूर्य ग्रहण: गर्भवती महिलाएं भूल से भी ना रखें ये चीजें

21 जून 2020, दिन रविवार आषाढ़ कृष्ण अमावस्या को सूर्यग्रहण हिंदुस्तान में खंडग्रास के रूप में ही दृश्य होगा। इस दौरान गर्भवती महिलाएं बालों पर कोई पिन ना लगाएं। अपने पास कोई भी नुकीली चीज ना रखें। ग्रहणकाल में गले में तुलसी की माला या चोटी में कुश धारण करें। ग्रहण के समय गर्भवती महिलाएं चाकू, कैंची, पेन, पैन्सिल जैसी नुकीली चीजों का प्रयोग न करें। सूई का उपयोग अत्यंत हानिकारक है।

ग्रहण के समय सोना नहीं चाहिए, सोने से मनुष्य रोगी होता है। ग्रहण के दिन पत्ते, तिनके, लकड़ी और फूल नहीं तोड़ने चाहिए। बाल और वस्त्र नहीं निचोड़ने चाहिए। ग्रहण के समय ताला खोलना, सोना, ये सब कार्य वर्जित हैं। ग्रहण के समय कोई भी शुभ या नया कार्य शुरू नहीं करना चाहिए। ग्रहण के स्पर्श के समय स्नान करना अनिवार्य है। ग्रहण के दौरान सभी को भगवान के मंत्रों का जाप करना चाहिए। घर में भी मंदिर को कवर करें।

सूर्य ग्रहण में ऐसे मिलेगा पुण्यफल

आषाढ़ कृष्ण पक्ष अमावस्या यानी कल खंडग्रास सूर्य ग्रहण (चूड़ामणि) लग रहा है। इस योग में स्नान-दान का पुण्य फल प्राप्त होता है। आपको अपनी राशि अनुसार जरूरतमंद लोगों को कुछ न कुछ दान अवश्य ही करना चाहिए। ऐसा करने से आपको शुभ फल प्राप्त होंगे।

 

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.