03 जून से गुरु मार्गी होंगे, इन राशियों के लिए धन लाभ होगा।

0 22
Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

मेष: मेष राशि के जातकों के लिए नवम स्थान में राह बनेगी। यह भाग्य है, इसलिए आपको बहुत भाग्य मिलने वाला है और आपके जीवन की कार शानदार ढंग से चलने वाली है। आपके व्यक्तित्व में सुधार होगा और आपके द्वारा मिलने वाले सभी लोग आपके प्रभाव में आ जाएंगे। पारिवारिक सहयोग से मुश्किलें आसान होंगी।

वृषभ: वृषभ राशि के जातकों के लिए गुरु 8 वें भाव में होगा। अब तक जो भी मुसीबतें स्वास्थ्य और धन ला रही थीं, वे सभी दूर हो जाएंगी। वित्तीय संकट का निदान होने वाला है। भीड़भाड़ से बचकर आप अच्छी स्थिति में रहेंगे। परिवार में वैचारिक मतभेद बना रहता है।

मिथुन: आपके सप्तम भाव में गुरु होने से व्यक्तिगत संबंधों पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ेगा। जीवनसाथी के साथ चल रहे मतभेद हल होंगे। आपसी प्रेम बढ़ेगा। भागीदारी के कामों में शामिल होंगे और लाभान्वित होंगे। आय के नए साधन प्राप्त हो सकते हैं। स्वास्थ्य में सुधार होगा। खर्च में कटौती होगी।

कर्क: यदि बृहस्पति छठे भाव में है, तो आपको बीमारियों से छुटकारा मिलेगा, अब तक जो दुश्मन आपको परेशान कर रहे थे, उनसे भी आपको राहत मिलेगी। हालांकि, खतरे से पूरी तरह से बचा नहीं है, इसलिए सावधान रहें। पैसों के लेन-देन में किसी पर भरोसा न करें। अपने कार्यों को स्वयं करने की आदत डालें। यह आपकी शादी की बात बन सकती है।

युवाओं को अच्छी नौकरी मिल सकती है

सिंह: शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े युवाओं और छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं में लाभ मिलेगा। शिक्षकों को आय के नए साधन प्राप्त होंगे। आर्थिक स्थिति में निरंतर सुधार की गुंजाइश है। नई नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं को अच्छी नौकरी मिल सकती है। प्रेम संबंध संतुलित रहेंगे। माता-पिता के बच्चों से संबंधित चिंताएं दूर हो जाएंगी।

कन्या: चौथे भाव में बृहस्पति के गोचर से सुख में वृद्धि होने वाली है। आपको हर कार्य में सफलता मिलेगी, लेकिन साथ ही आपका मन आध्यात्मिकता की ओर बढ़ेगा। धर्म, संस्कृति और आध्यात्मिकता को बचाने के प्रयास साकार होंगे। आपके मान-सम्मान में वृद्धि के संकेत हैं।

तुला: तुला राशि के लिए, आप तीसरे भाव में गुरु होने से अपने भाइयों और बहनों के प्रति उदार रहेंगे। कोशिश करेंगे और उनके लिए बहुत कुछ करेंगे। इस दौरान आपको अपने काम पर ध्यान केंद्रित करना होगा। किसी के बहकावे में न आएं। रिश्तों को लेकर सावधान रहें। भाग्य के साथ, कठिनाइयों को दूर किया जाएगा।

वृश्चिक: कुंडली का दूसरा घर धन का स्थान होता है। यहां इस राशि वालों को गुरु होने से सबसे ज्यादा फायदा होगा। आपको अतुलनीय धन की प्राप्ति होने वाली है। इसका मतलब है कि आप जो भी काम करेंगे उसमें आपको पूरी सफलता मिलेगी। भौतिक सुख-साधनों में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य बेहतर रहेगा।

क्षेत्रफल में वृद्धि होगी

धनु: पहले स्थान पर आरोही घर में गुरु होने से आपके प्रभाव क्षेत्र में वृद्धि होगी। लोग आपकी बातों को सुनेंगे और उसका पालन करेंगे। आपको विवाहित सुख मिलेगा। प्रेम-प्रसंग में चल रहे झगड़े टलेंगे। शारीरिक स्वास्थ्य मिलेगा। धन का आगमन जारी रहेगा।

मकर: दोहरे भाव में गुरु होना लाभदायी रहेगा। यह एक खर्च करने वाला स्थान है, इसलिए खर्चों पर अंकुश लगाया जाएगा। अनावश्यक खर्च रुक जाएगा और आप बचत करने की स्थिति में होंगे। आपकी शक्ति और धैर्य में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य में सुधार होगा। आपको शत्रुओं से मुक्ति मिलेगी।

कुंभ: ग्यारहवीं आय स्थान में, गुरु मार्गी वित्तीय लाभ प्रदान करने के लिए आ रहे हैं। नया काम डिजाइन होगा और आपको पैसा मिलेगा। परिवार में सबकुछ होगा। व्यापार में लाभ होगा। आपकी निर्णय लेने की क्षमता मजबूत होगी। प्रेम संबंधों में मधुरता आएगी। आपके साहस में वृद्धि होगी।

मीन: दशम स्थान आजीविका का भाव है। अब तक, यदि आपके जीवन में आजीविका के साधनों के बारे में अनिश्चितता है, तो यह बंद हो जाएगा और आपको एक स्पष्ट रास्ता दिखाई देगा। व्यापार और नौकरी में लाभ होगा। धन का आगमन बढ़ेगा और आप सुख के साधन खरीदने में सफल रहेंगे।

Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Ads
Ads
Leave A Reply

Your email address will not be published.